आचार्य विशाल पोरवाल से जानिए कैसा रहेगा आपका यह साल?



वाराणसी। 

मेष: मन में उत्साह व मनोबल उंचा रहेगा। सरकारी कार्यों में लाभ, अनेक उपलब्धि प्राप्त होगी। पारिवारिक एवं कुटुंबीय तनाव में कमी होगी। मानसिक व्यथा रहेगी। स्त्रीयों को कष्ट, स्वंजनों से विरोध रहेगा। सट्टा, शेयर, व्यसन आदि से हानि होगी। सम्पत्ति, वाहन के क्रय-विक्रय हेतु वर्ष उत्तम है। संतान पक्ष की उन्नति के योग है, न्यायालीय कार्यों में मंदगति से प्रगति होगी। वर्ष में 1, 4, 8 व 12 कष्ट मास है। पेट में परेशानी हो सकती है, खाने-पीने में विशेष ध्यान दे। राहु व केतु का जाप करें। 

वृषभ: उन्नतिदायक होगा, कुछ संघर्ष के साथ सफलता मिलेगी, मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। स्वास्थ्य संबंधी चोट-चपेट व धोखा-धड़ी हो सकती है। स्त्री वियोग संभव एवं आपरेशन हो सकता है। सामाजिक एवं न्यायालीय प्रगति तथा दाम्पत्य में तनाव होगा। मकान या भूमि क्रय-विक्रय में लाभ होगा। धार्मिक कार्य सम्पन्न होंगे। कर्मचारियों के लिए वर्ष शुभ है। वर्ष के 1, 3, 5, 9 मास कष्ट के है। 

मिथुन: अष्टम शनि की ढैया चलेगी। अंत विश्वासघात संभव है। धन हानि, कुटुम्बीय सुख में कमी, पूंजी निवेश करने में सचेत रहे। वाणी में कुटता से विवाद संभव, विद्यार्थियों को उचित सफलता नहीं मिलेगी। संतान में मतभेद होगा। शत्रु से कष्ट, अचानक बिमारी, चोट आदि। व्यापार व गृहस्थ में सामान्य सुख बना रहेगा। 

कर्क: कुछ बाधाएं एवं संघर्ष के पश्चात् सफलता मिलेगी। सहयोग द्वारा सम्पत्ति अर्जित होगी व रूके कार्य सम्पन्न होंगे। कुटुम्बीय सहयोग मिलेगा। धैर्य में कमी, आवेश में किये गये कार्य द्वारा हानि संभव है। सम्पत्ति वाहन के क्रय-विक्रय में लाभ होगा। राजनैतिक संबंधों में प्रगाढ़ता होगी। माता-पिता को स्वास्थ्य बाधा, विद्यार्थियों के लिए उत्तम, विदेश यात्रा व तीर्थ यात्रा, संतान पक्ष की समस्याएं कम होगी। व्यापार में उच्चस्तरीय लाभ होगा। साल में 3, 5, 6, 11 कष्ट वाले मास, शरीर में कष्ट खास, खुजली आदि समस्या। 

सिंह: यह वर्ष अधिकाशंतः लाभप्रद रहेगा। पारिवारिक सुख में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य उत्तम, कार्य क्षेत्र का प्रसार, कष्टों में कमी होगी। प्रतिष्ठित जनों से सम्पर्क होगा। बाधित धन की प्राप्ति, भोग विलास पर व्यय होगा। क्रय-विक्रय लाभ, माता-पिता संग धर्म यात्रा, विद्यार्थियों के वर्ष लाभ, स्त्री संबंध लाभ, नौकरी वालों के लिए लाभ। साल में 4, 6, 8, 12 माह में कष्ट, जमीनी विवाद, झूठा आरोप, राहु का उपाय। 

कन्या: कार्य मंद गति से सम्पन्न होंगे, स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं संभव है। वर्ष सुखदायी होगा। आर्थिक मामलों में सामान्य संघर्ष होगा। धन का अपव्यय होगा। भूमि क्रय का योग है। माता-पिता को शारिरीक कष्ट होगा। कर्मचारियों हेतु वर्ष सामान्य रहेगा। अतिरिक्त लाभ का योग है। व्यापार में अस्थिरता रहेगी। धार्मिक कृत्यों में अभिरूचि रहेगी। बौद्धिक कार्यों में यश की प्राप्ति होगी। न्यायालीय कार्यों में सकारात्मक स्थिति बनेगी। पारिवारिक मतभेदों में सुधार होगा। कुटुम्बीय सुख की प्राप्ति होगी। वर्ष में 1, 5, 6, 9 मास कष्ट मय होंगे। 

तुला: तुला राशि पर चतुर्थ शनि की ढैया का प्रभाव रहेगा। सभी कार्य मंद गति से सम्पन्न होंगे। लघु यात्रा का योग है। मानसिक तनाव रहेगा। अत्यधिक विश्वास हानिप्रद होगा। विलासिता पर व्यय होगा। व्यवसाय में अल्पलाभ। वाणी कटुता में विवाद संभव है। भाई-बहनों की उन्नति होगी। भूमि, मकान, वाहन के क्रय-विक्रय में हानि होगी। माता-पिता से मतभेद संभव है। विद्यार्थियों को अध्ययन के क्षेत्र में अभिरूचि कम हानि होगी। संतान पक्ष से सामान्य सहयोग होगा। वैवाहिक जीवन सामान्य। विरोधियों से मित्रता संभव है। कोर्ट कचहरी कार्यों में अस्थिरता रहेगी। वर्ष में 2, 6, 8, 10 मास कष्टमय रहेगा। 



वृश्चिक: वर्ष लाभ एवं उन्नति का होगा। संघर्षित कार्यों एवं कठिन परिस्थितियों का समाधान होगा। स्त्री स्वास्थ्य कष्ट, स्वजनों का विरोध होगा। नये कार्यों में लाभ, आय के स्त्रोत में वृद्धि होगी। परिवार में धार्मिक एवं मांगलिक कार्य होंगे। प्रतिष्ठित व्यक्तियों से सम्पर्क होगा। विद्यार्थियों को अध्ययन में अभिरूचि होगी। संतान पक्ष से भावनात्मक स्नेह होगा। न्यायालीय कार्यों में मंद प्रगति होगी। संयमीत जीवन व्यतीत होगा। धार्मिक कार्यों में अभिरूचि होगी। व्यवसाय में वृद्धि तथा लाभ होगा। नौकरी में सुधार होगा। वर्ष के 3, 6, 7 माह कष्टमय होंगे। 

धनु: धनु पर शनि की साढ़ेसाती रहेगी। मानसिक कष्ट, कार्यों में विलंब तथा बाधा आयेगी। विरोधियों से व्यर्थ विवाद होगा। अनावश्यक व्यव तथा भागदौड़ से कष्ट संभव है। पारिवारिक कलह से तनाव होगा। वर्ष के मध्य से आय के साधानों में वृद्धि होगी। भाई-बहनों की उन्नति के योग है। सम्पति वाहन के क्रय-विक्रय से हानि संभव है। वाहन से चोट-चपेट, व्यापार का विस्तार होगा। कर्मचारी वर्ग में भविष्य में लाभ अथवा पदोन्नति होने की संभावना है। वर्ष के 4, 8, 10, 12 कष्ट वाले है। 

मकर: शनि की साढेसाती हृदय पर रहेगी। भय की अधिकता तथा रक्तचाप से कष्ट होगा। कार्य क्षेत्र में कष्ट होगा तथा मानसिक तनाव होगा। नौकरी में पदच्युत अथवा स्थानांतरण। अल्प स्वास्थ्य संबंधी कष्ट संभव। उत्तम व्यवहार से लाभ होगा। सामाजिक मान सम्मान में वृद्धि होगी। माता-पिता द्वारा सहयोग। विद्यार्थियों को अध्ययन में अथक परिश्रम होगा। स्त्री वियोग अथवा स्त्री द्वारा हानि संभव। संतान पक्ष से भावानात्मक स्नेह होगा। दाम्पत्य में वैचारिक मतभेद होगा। वर्ष के 5, 9, 10, 11 माह कष्टमय होंगे। 

कुंभ: सिर पर शनि की साढे़साती का प्रभाव होगा। मानसिक कष्ट, तनाव अधिक रहेगा। भौतिक सुख साधनों पर अधिक व्यय होगा। धैर्यता पूर्वक घरेलू समस्याओं का समाधान होगा। भूमि क्रय-विक्रय, मकान आदि का सोच विचार कर कार्य करें। विद्यार्थियों के लिए यह वर्ष अच्छा रहेगा। विद्यार्थियों को अध्ययन में अभिरूचि उत्पन्न होगी। संतान पक्ष में मतभेद संभव है। दम्पत्ति अपने दायित्वों के प्रति उदासीन रहेंगे। व्यापार में लाभ की स्थिति बनी रहेगी। नौकरी करने वालों की समस्याएं बढ़ सकती है। पत्नी की स्वास्थ्य में बाधा आयेगी। वर्ष के 2, 6, 10, 12 कष्टमय होंगे। 

मीन: वर्ष लाभकारी है, कुटुंब में सुखद वातावरण रहेगा। बाधित धन की प्राप्ति, विदेश से लाभ संभव है। आर्थिक उन्नति हेतु प्रयास होगा। लाभ मिलेगा, भाई-बहनों के साथ सौहार्द बना रहेगा। नवीन सम्पत्ति के क्रय-विक्रय के लिए वर्ष अच्छा रहेगा। ऋण भार संभव है। सामाजिक सम्पर्कों में वृद्धि होगी। विद्यार्थियों के लिए अध्ययन क्षे़त्र में अच्छी संभावनाएं रहेगी। संतान पक्ष की उन्नति के द्वार खुलेंगे। विरोधी पक्ष का दबाव कम होगा। दाम्पत्य सुख में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। नौकरी वालों के लिए पदोन्नति का योग है। व्यापार वालों की उन्नति होगी। 1, 3, 7, 11 मास कष्ट दायक है। 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल