अदृश्य शक्तियां मिले तो पूरी दुनिया घूमूंगा



डाॅ. दिलीप सिंह

इंदौर। अदृश्य होने की शक्ति पाने की इच्छा  हमारे मन में बचपन से ही मौजूद होती है।  साथ ही अपने कुछ शरारती और मजेदार विचारों को पूरा करने की लालसा भी हमारे मन में होती है। सोनी सब के शो हीरोरू गायब मोड आॅन से हमारे अपने हीरो-वीर (अभिषेक निगम) ने एक बार फिर से अदृश्य होने की शक्ति मिलने की इच्छा को मन में जगा दिया है, चाहे वो किसी के सामने आकर अचानक से उन्हें डराना हो यह फिर जरूरतमंदो की मदद करना हो। 



हम सभी का अदृश्य होने पर अपना एक विचार है, लेकिन हर किसी के अंदर एक छुपा हुआ बच्चा जरूर होता है जो अदृश्य होकर घर में बहुत उछल कूद करना चाहता है। जबकि अपना हीरो  अपने पिता की असलियत दुनिया के सामने लाने और साथ ही उन्हें निर्दोष साबित करने के उद्देश्य को पूरा करने में व्यस्त है, हमारे सोनी सब के कलाकारों ने भी बताया कि अगर उन्हें अदृश्य होने की शक्ति मिलती है तो वो क्या करेंगे। 



अलादीनरू नाम तो सुना होगा के अलादीन उर्फ सिद्धार्थ निगम पूरी दुनिया में घूमना चाहते हैं, ष्अगर मुझे अदृश्य होने की शक्तियां मिल जाएंगी तो मैं पूरी दुनिया में  घूमना चाहूंगा वो भी बिना कोई पैसा दिए, जहां किसी को भी जाने की अनुमति नहीं है, मैं वहां पर भी जा पाऊंगा। सायंतनी घोष ने कहा, ष्मैं दुनिया के लिए अपनी अदृश्य शक्तियों का इस्तेमाल महत्वपूर्ण मीटिंग में जाने के लिए करूंगी। मैं वहां रहकर एक आम आदमी के तौर पर सबसे पहले ये जानना चाहूंगी कि हमारे आसपास क्या चल रहा है।  



सिद्धार्थ की तरह ही दुनिया को न्याय दिलाने की आशा लिए अपने उत्साह को साझा करते हुए, पारस अरोड़ा, जो कि कांटेलाल एंड संस में डॉ प्रमोद ठाकुर की भूमिका निभा रहे हैं, ने कहा कि मैं वास्तव में अदृश्य शक्ति का पूरा आनंद लूंगा और लोग जो भी मुझसे कहते हैं या मेरे पीछे बात करते हैं कि उनके असली चेहरे क्या हैं इस बारे में जानने की कोशिश करूंगा, तो मुझे लगता है इस तरह की पॉवर बहुत ही अच्छी  है। 


Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

चकिया में देवर ने भाभी के लाखों के गहने और नगदी उड़ाये, आईपीएल में सट्टे व गलत आदतों में किया खर्च, एएसपी ने किया खुलासा

नलकूप के नाली पर पीडब्लूडी विभाग ने किया अतिक्रमण, सड़क निर्माण में धांधली की सूचना मिलते ही जांच करने पहुंचे सीडीओ, जमकर लगाई फटकार