खबर का असर: रिश्वत लेते लेखपाल की वायरल हुई थी वीडियो, जांच के आदेश



संजय कुशवाहा

गंगौली (गाजीपुर)। कासिमाबाद तहसील क्षेत्र में रिश्वत लेने के आरोपित लेखपाल पर एसडीएम ने वेतन रोकते हुए जांच का आदेश दिया है। इसकी जांच नायब तहसीलदार को सौंपी है। रिपोर्ट आने के बाद बड़ी कार्रवाई होना तय है। एसडीएम के इस त्वरित एक्शन से विभाग में हड़कंप मच गया है। दरअसल, लेखपाल लालजी राम का रिश्वत लेते वीडियो वायरल हो गया था। जिसकी खबर जनसंदेश टाइम्स के छह जनवरी के अंक में पेज नंबर 13 पर प्रमुखता से प्रकाशित हुई थी।    

गौरतलब है कि, तहसील क्षेत्र के हरिहरपुर में तैनात लेखपाल लालजी राम बीते  दिनों समाधान दिवस के अवसर पर कासिमाबाद ब्लॉक परिसर में पीड़ित महिला की  पैमाइश कराने के लिए 15 हजार रुपए रिश्वत स्वीकार करने का   वीडियो वायरल हुआ था।  महिला ने आरोप लगाया कि लेखपाल ने पीड़ित की जमीन पैमाइश का रिश्वत बकायदे अपने खाते में  लिया। जबकि  विपक्ष के नाम पैमाइश कर दी थी। इसके बाद सोशल मीडिया पर लेखपाल का रिश्वत लेने का वीडियो वायरल हो गया । देखते देखते यह वीडियो सैकड़ो लोगो के यहां पहुंच गया। इसकी खबर जनसंदेश टाइम्स ने प्रमुखता से उठाया । अधिकारी ने वीडियो वायरल की खबर को संज्ञान में लेते हुए बड़ी कार्रवाई की है। बुधवार को एसडीएम भारत भार्गव ने आरोपी लेखपाल का अग्रिम जांच तक तत्काल वेतन काटने का निर्देश दिए। वहीं इस प्रकरण की जांच नायब तहसीलदार चन्द्रशेखर वर्मा को सौंप दी है।

बतादें, वीडियो में सीधे तौर पर लेखपाल रिश्वत लेना स्वीकार कर रहा है। जिससे यह प्रतीत हो रहा है कि विभागीय कर्मी किसी तरह से जनता का शोषण कर रहे है। वहीं अधिकारी की इस त्वरित कार्रवाई से जनता का भरोसा भी जगा है कि ऐसे कर्मचारियों पर प्रशासन  अंकुश लगा रही है।  

 


Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

सेक्स पावर बढ़ाती है गोरखमुंडी, जानिए इसके सेवन का तरीका और फायदा

नये साल में इसी माह से काशीवासियों को मिलने लगेगी अनेकों सौगात, पढ़िए