अच्छी पहल: एनआरएलएम की पहली महिला हस्तशिल्प उत्पादक कंपनी गठित

- विकास खंडों की बुनकर महिलाएं शेयर होल्डर के तौर पर करेंगी कारोबार



सुरोजीत चैटर्जी

वाराणसी। जनपद में राष्टकृीय ग्रामीण स्वरोजगार मिशन (एनआरएलएम) के जरिये पहली बार बुनकरी से जुड़ी हस्तशिल्प उत्पादक कंपनी गठित करायी है। इस कंपनी को संयुक्त राष्टकृ विकास कार्यक्रम से आर्थिक मदद का भरोसा दिया गया है। इस कंपनी को स्थापित करने के लिए चार ब्लाकों की 24 महिलाओं को उत्कर्ष वेलफेयर फाउंडेशन ने तकनीकी प्रशिक्षण दिया है।

प्रथम चरण के अंतर्गत विभिन्न विकास खंडों में बुनकरी से संबद्ध 160 महिलाओं को एनआरएलएम के माध्यम से कंपनी में सम्मिलित किया गया है। इसमें जिले की 500 बुनकर महिलाओं को शामिल करने का लक्ष्य है। हरहुआ विकास खंड के शिवरामपुर गांव में शुक्रवार को आयोजित एक समारोह में आर्टिजन प्रोड्यूसर आॅर्गेनाइजेशन (एपीसी या एपीओ) के रूप में संघर्ष हस्तशिल्प उत्पादक कंपनी को उसके पंजीकरण का प्रमाण-पत्र सौंपा गया। मुख्य अतिथि उपायुक्त एनअरएलएम करुणाकर अदीब ने कंपनी की महिलाओं को सर्टिफिकेट सौंपा।

इस मौके पर उन्होंने संबोधित करते हुए कहा कि इस कंपनी में शामिल स्वरोजगारी महिलाओं को शेयर होल्डर बनाया गया है। पूर्व में नाबार्ड ने लकड़ी हस्तशिल्प के लिए एपीओ बनाया है। कार्यक्रम में उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक के एमडी तथा सीईओ गोविंद सिंह, बिजनेस हेड त्रिलोकी नाथ, सहायक अयुक्त हथकरघा एवं वस्त्र नितेश धवन, निदेश्क आरसेटी अखौरी मनीष, एनआरएलएम के प्रदीप केसरवानी, श्रवण कुमार आदि की प्रमुख उपस्थिति रही।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल