मृतक भी ले रहे पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ! गांव में कैंप लगाकर शुरू हुई छानबीन



अजय सिंह उर्फ राजू

दुल्लहपुर (गाजीपुर)। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। जिले में एक तरफ हजारों किसान सम्मान निधि पाने के लिए सरकारी कार्यालयों का चक्कर लगा रहे है। वहीं दूसरी ओर कृषि विभाग मृतक किसानों के खाते में सम्मान निधि भेज रहा है। 

जखनिया तहसील के परमवीर चक्र विजेता शहीद वीर अब्दुल हमीद के पैतृक गांव धामपुर तथा राजस्व गांव चकमकपुर में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के दो हजार का लाभ मृतक से लेकर सरकारी कर्मचारी तक लोग उठा रहे हैं। इस सिलसिले में डीएम मंगला प्रसाद सिंह के निर्देश पर कृषि विभाग के अधिकारियों ने बीते शनिवार से गांव में कैंप लगाकर अपात्रों की छानबीन और पैसा रिकवरी करने का कार्य शुरू कर दिया है। 

इस सिलसिले में मंगलवार को तीसरे दिन जखनिया कृषि विभाग के सहायक विकास अधिकारी राधेश्याम, बलवंत कुमार, संतोष चैधरी, प्रमोद कुमार, धर्मेंद्र कुमार, कन्हैया राम, रामकृत की जांच टीम ने बताया कि धामपुर राजस्व गांव में 440 पंजीकृत किसान सम्मान निधि का लाभ उठा चुके है। जिसमें 7 मृतक, 12 भूमिहीन,13 सर्विसमैन लाभ लेने में शामिल हैं। 

वहीं राजस्व गांव चकमकपुर में पंजीकृत संख्या 181 के सापेक्ष 46 अपात्र एक ही परिवार के पूरे सदस्य प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ उठाएं हैं। जिसमें परिवार में एक व्यक्ति के नाम से जमीन है। लेकिन लाभ बेटा, बेटी और बहू तक लाभ उठा रहे हैं। जब विभाग के लोगों ने गांव में जांच पड़ताल की तो लोगों ने बताया कि गांव में एक व्यक्ति आया था। जो बैंक का पासबुक, आधार कार्ड और फोटो लेकर अपने मोबाइल से व्हाट्सएप के माध्यम से कही भेज कर सबका पंजीकृत कराया था। 

इसके एवज में पांच सौ रुपये तत्काल और पहला किस्त आने पर दो हजार रुपए जालसाज ले चुका है। सबसे अहम बात यह है कि गांव में हो रही जांच की पल-पल की खबर जालसाज रख रहा है। वही गांव से बहुत से लोग ऐसे हैं कि अपना घर बंद करके फरार है ।उस व्यक्ति का कोई नाम भी नहीं बता रहा है लेकिन कहीं ना कहीं जिले के कृषि विभाग से ही संबंधित व्यक्ति द्वारा ही इस फर्जी जालसाजी की आशंका व्यक्त की जा रही है।


Popular posts from this blog

ब्लाक प्रमुख को सरेराह गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाके में सनसनी

1.5 करोड़ लेकर पत्नी ने किया पति का सौदा, किया प्रेमिका के हवाले

मेरी करनी का फल है लिखकर महिला दरोगा ने फंदे पर झूलकर दी जान