सनातन हिन्दू धर्म संतों के नेतृत्व में अयोध्या के राम मंदिर के लिए धन संकलन का अभियान



जनसंदेश न्यूज

वाराणसी। अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर विशाल एवं भव्य मंदिर के निर्माण का कार्य प्रारंभ हो चुका है। श्रीराम मंदिर के निर्माण में दुनिया भर के हिन्दुओं का अंशदान हो सके। इसके लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के द्वारा धन संकलन अभियान का शुभारंभ हो चुका है।

धन संकलन का यह अभियान सनातन हिन्दू धर्म के संतों के नेतृत्व में चलेगा। स्थान-स्थान पर संतों की बैठकें हो रही हैं। सनातन हिन्दू धर्म के समस्त संप्रदायों के प्रतिनिधित्व वाली अखिल भारतीय सन्त समिति की आगामी बैठक में भी इसी विषय पर प्रमुखता से चर्चा होगी। अखिल भारतीय सन्त समिति की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक अगले वर्ष के पहले सप्ताह में दो और तीन जनवरी को काशी में दुर्गाकुण्ड स्थित श्री हनुमान प्रसाद पोद्दार अन्ध विद्यालय में होने जा रही है।

पधारने वाले सन्तों की जानकारी देते हुए आयोजन समिति के अध्यक्ष सुधीर सिंह ने बताया कि की राष्ट्रीय अध्यक्ष अविचल दास जी महाराज समेत सन्त समिति के सर्वोच्च निदेशकमंडल के सन्त इस बैठक में भाग लेंगे। ज्योतिष पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती, निर्मल अखाड़े के श्रीमहन्त ज्ञानदेव सिंह, जगद्गुरु रामानुजाचार्य स्वामी वासुदेवाचार्य विद्याभाष्कर, युगपुरुष स्वामी परमानन्द गिरि, महामंडलेश्वर अलख गिरि, स्वामी विवेकानंद महाराज, महन्त फूलडोल बिहारीदास, स्वामी धर्मदेव, महन्त कमलनयन दास, आचार्यमहामंडलेश्वर स्वामी बालकानन्द गिरि, महामंडलेश्वर अनन्तदेव गिरि, स्वामी देवेन्द्रानन्द गिरि, कालिका पीठाधीश्वर महन्त सुरेन्द्रनाथ अवधूत, महामण्डलेश्वर जनार्दन हरि, स्वामी हंसानन्द तीर्थ, महामण्डलेश्वर स्वामी मनमोहनदास, ब्रह्मर्षि अंजनेशानन्द सरस्वती, स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती, स्वामी दिव्यानंद सरस्वती, महामंडलेश्वर ज्योतिर्मयानंद गिरि, महामंडलेश्वर ईश्वरदास, राधे बाबा निर्मोही, शक्ति शांतानंद महर्षि, महामण्डलेश्वर अनुभूतानन्द गिरि, गौरीशंकर दास, महन्त बलराम दास हठयोगी, डॉ. श्यामदास, स्वामी वियोगानंद सरस्वती, महन्त राधामोहन दास समेत कई सन्त इस बैठक में भाग लेंगे। अस्वस्थता के कारण महन्त नृत्यगोपाल दास जी इस बैठक में  नहीं आ पा रहे हैं।

संतों के साथ-साथ इस बैठक में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल जी, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के महासचिव चम्पत राय और विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय मंत्री अशोक तिवारी और श्रीकाशी विद्वत परिषद के अध्यक्ष आचार्य रामयत्न शुक्ला भी भाग लेंगे। संतों के लिए सिगरा स्थित कैवल्य ज्ञानपीठ और अस्सी स्थित राम जानकी मठ में निवास की व्यवस्था की गई है।

संतों के आतिथ्य और बैठक के सफल आयोजन के लिए कार्यकर्ताओं को विभिन्न दायित्व दिए गए हैं। आयोजन समिति का अध्यक्ष श्री काशी विश्वनाथ मुक्ति आंदोलन के अध्यक्ष सुधीर सिंह को, स्वागत समिति का अध्यक्ष काशी विद्यापीठ में प्राध्यापक सुनील मिश्र को, भोजन-प्रसाद का दायित्व किशन जालान को, कार्यक्रम स्थल के प्रबंधन का दायित्व अखिलेश खेमका को और समस्त कार्यक्रमों का प्रभारी ब्रजेश पाठक को बनाया गया है।


Popular posts from this blog

यूपी में शादी समारोह में बैंड और डीजे पर भी लगा रोक, जिला प्रशासन से नहीं लेनी होगी अनुमति लेकिन........

करवाचौथ पर नहीं दिलाई 12 हजार की साड़ी तो पत्नी ने शो रूम के अंदर ही पति को जमकर पीटा

ब्लाक प्रमुख को सरेराह गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाके में सनसनी