किसान यात्रा में शामिल होने जा रहे सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव गिरफ्तार, बोले, जेल भेज दो, मगर कन्नौज जरूर जाएंगे



जनसंदेश न्यूज़

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने लखनऊ में गिरफ्तार कर लिया। वो किसान यात्रा में शामिल होने के लिए कन्नौज जा रहे थे। पुलिस उन्हें इको गार्डेन ले गई। यात्रा में शामिल होने के लिए अखिलेश निकले तो पुलिस ने उनकी फ्लीट रोक ली। बाद में वो पैदल ही चल पड़े। आगे बढ़ने से पुलिस ने रोका तो वो सड़क पर ही धरने पर बैठ गए। बाद में  पुलिस ने धारा 144 के उल्लंघन पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

दूसरी ओर, किसानों के मुद्दे पर प्रदर्शन कर रहे सपा कार्यकर्ताओं को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने उन पर लाठियां बरसाई। कार्यकर्ता विक्रमादित्य मार्ग पर स्थित पार्टी कार्यालय पर प्रदर्शन करने जा रहे थे। सोमवार की सुबह ही लखनऊ के विक्रमादित्य मार्ग पर भारी पुलिस बल तैनात थी। इसके बावजूद बड़ी संख्या में सपा कार्यकर्ता प्रदर्शन करने पहुंचे। सपा के जिन कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया उन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

अखिलेश यादव ने मीडिया से कहा कि भाजपा ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की बात कही थी, लेकिन अब कृषि कानून लाकर उन्हें कमजोर कर रहे हैं। किसानों के मुद्दे पर हम जेल जाने के लिए तैयार हैं। नए कृषि कानूनों से अन्नदाता की जमीनें जब्त कर ली जाएंगी और वे बर्बाद हो जाएंगे। किसानों को अपनी जमीन पर गुलामों की तरह काम करना पड़ेगा। पहले सपा कार्याल पहुंचे तीन विधान परिषद सदस्यों उदयवीर सिंह, राजपाल कश्यप और आशु मलिक को पुलिस ने अपनी कस्टडी में ले लिया।

किसान आंदोलन की आग देश भर में फैलती जा रही है। इनके आंदोलन को बारह से ज्यादा सियासी दलों ने समर्थन दिया है। तीनों कृषि कानूनों को रद करने के लिए किसान कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। किसानों के साथ सरकार की पांच दौर की वार्ता बेनतीजा रही है जिस पर किसानों ने आठ दिसंबर से भारत बंद का एलान किया है।

अखिलेश यादव कन्नौज में किसान मार्च करने जा रहे थे, लेकिन प्रशासन ने अनुमति नहीं दी। जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने कहा कि अभी कोरोना वायरस खत्म नहीं हुआ है लिहाजा भीड़ जुटाने की अनुमति किसी भी स्थिति में नहीं दी जा सकती। सपा मुखिया को पत्र भेजकर इस बारे में अवगत करा दिया गया है। प्रशासन ने अल्टीमेटम दिया है कि अगर भीड़ जुटती है तो कार्रवाई की जाएगी।

आठ दिसंबर को बुलाए गए भारत बंद को लेकर पुलिस काफी चैकन्ना है। पुलिस को संयम बरतने के निर्देश दिए गए हैं। कहा गया है कि किसानों के साथ टकराव की नौबत कहीं आने न दी जाए। दिल्ली से सटे गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर और आसपास के जिलों में अतिरिक्त फोर्स तैनात की गई है। किसान यूपी होते हुए दिल्ली कूच कर सकते हैं। राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड की सीमा वाले जिलों में सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। खुफिया एजेंसियों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं। 




Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल