चंदौली के इस थाने में धरने पर बैठा यह छात्र नेता, पत्नी की हत्या करने वाले को बचाने का लगाया आरोप



जनसंदेश न्यूज़

चंदौली। समाजवादी पार्टी के छात्र नेता अंकित यादव शुक्रवार को अलीनगर थाने में धरने पर बैठ गए। इस दौरान उन्होंने अलीनगर पुलिस ने अपनी पत्नी के हत्यारों को बचाने व मदद करने का आरोप लगाया। कहा कि तहरीर देने के दो दिन बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की और अब उनकी गिरफ्तारी में आनाकानी कर रही है। 

अंकित यादव ने अलीनगर पुलिस को दिए गए तहरीर में आरोप लगाया कि बीते नौ नवंबर को प्रीति यादव से उसकी शादी होने के बाद उसके पिता महेंद्र प्रसाद के अलावा उसके परिवार के लोग काफी नाराज थे। कोर्ट मैरिज होने के बाद मेरी पत्नी के पिता घर आए और मान-प्रतिष्ठा का हवाला देते हुए अरेंज मैरिज शादी करने की बात कही। 

थाने में धरने पर बैठे अंकित

इसके बाद 23 नवंबर को मेरी पत्नी की मां खरीदारी के बहाने उसे अपने घर ले गयी और 29 नवंबर को उसकी हत्या करके शव को गायब कर दिए। कहा कि मेरी पत्नी की मौत की सूचना दिए बगैर ही उसके पिता, भाई व मां ने शव को जला दिया। पत्नी की हत्या की जानकारी के बाद जब मैं अलीनगर थाने पहुंचा और तहरीर दी तो दो दिन बार पुलिस ने एफआईआर दर्ज की। इसके अलावा मेरी पत्नी प्रीति यादव द्वारा लिखे गए लेटर और पूर्व में उसके पिता-भाई व घरवालों द्वारा की गई मारपीट के सबूते भी अलीनगर इंस्पेक्टर को दिए। बावजूद इसके अलीनगर पुलिस हत्यारोपियों को बचा रही है। आरोप है कि लड़की के पिता महेंद्र प्रसाद यादव पुलिस विभाग में है। 

शादी के बाद रजिस्ट्रार कार्यालय द्वारा जारी किया गया विवाह पंजीयन-पत्र


यही वजह है कि पुलिस उन्हें बचा रही है और अब तक हत्यारोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी। अंकित यादव ने बताया कि खुलेआम घुम रहे हत्यारोपियों द्वारा जान से मारने की धमकी दी जा रही है। ऐसे में आज विवश होकर अलीनगर पुलिस की कार्य प्रणाली के खिलाफ थाने में धरने पर बैठना पड़ रहा है। मांग किया कि मुझे यह जानकारी होनी चाहिए कि मेरी पत्नी की मौत कैसे और किन परिस्थितियों में हुई है। इस संबंध में अलीनगर थाना प्रभारी व सीओ सदर के सरकारी नंबर पर सम्पर्क किया गया, लेकिन उनके बात नहीं हो पायी।


...प्रतिष्ठा की आंच में चला पांच सालों का प्रौढ़ प्रेम

परिजनों पर भरोसे में लेकर हत्या करने का आरोप

चंदौली। जिस प्रेम को प्रौढ़ व प्रगाढ़ होने में दो जिस्म व जान ने पांच साल का लम्बा समय दिया, उसे मान-सम्मान व प्रतिष्ठा की आंच ने चंद मिनटों में जलाकर खाक कर दिया। जी हां! बात हो रही है अंकित यादव की पत्नी प्रीति यादव के हत्याकांड की। अंकित-प्रीति का प्रेम परवान चढ़ता इसके पहले ही उसे कूचल दिया गया। अंकित का ऐसा आरोप है कि भरोसे में लेकर घरवालों ने ही उसके प्रेम को हमेशा के लिए उससे दूर कर दिया है, जिसमें समूचा परिवार शामिल है। षड्यंत्र की इस कड़ी में वे मां-बाप भी जुड़े हैं जिनका दुलार पाकर मेरी पत्नी प्रीति ने खुद के अस्तित्व को पाया। 

सपा के फायरब्रांड छात्र नेता अंकित यादव अपनी पत्नी की हत्या से इस कदर आहत थे कि उन्होंने शुक्रवार की सुबह-सुबह अपने फेसबुक वाल से अपनी उस पत्नी के नाम एक मार्मिक संदेश लिखा, जिसे प्रीति यादव कभी नहीं पड़ सकेगी। अंकित ने अपने खत में पत्नी को आगे पढ़ाने व चिकित्सक बनाने की इच्छा का जिक्र किया। साथ ही उसे पूरा न होने पाने की कसक व पीड़ा की छाप भी अपने शब्दों के जरिए छोड़ा। यह भी लिखा कि अब मैं भविष्य की चकाचैंध की जगह अपने यादगार अतीत के साथ जीना चाहता हूं तुम्हारी यादों के साथ जीता चाहता हूं। जो डायरी तुम अधूरी छोड़ गयी थी उसे पूरा करना चाहता हूं। कहा कि जिस तरह तुमने अपना पूरा जीवन बतौर पत्नी समर्पित कर दिया। अब आगे मैं अपना पूरा जीवन तुम्हें समर्पित कर रहा हूं। लिखा कि जहां भी रहना खुश रहना और मुझे हमेशा संघर्ष करने की हिम्मत देते रहना। अंत में अंकित यादव ने अपने फेसबुक वाल पर ओनरकिलिंग जैसे अल्फाजों का भी इस्तेमाल किया और हत्यारों को सजा दिलाने की अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की।


Popular posts from this blog

यूपी में शादी समारोह में बैंड और डीजे पर भी लगा रोक, जिला प्रशासन से नहीं लेनी होगी अनुमति लेकिन........

करवाचौथ पर नहीं दिलाई 12 हजार की साड़ी तो पत्नी ने शो रूम के अंदर ही पति को जमकर पीटा

ब्लाक प्रमुख को सरेराह गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाके में सनसनी