गाजीपुर में फर्जी प्रमाण पत्र पर नौकरी पाने वाली शिक्षिका बर्खास्त, मुकदमा दर्ज, वेतन भी होगा रिकवरी, तीन और पर गिरेगी गाज



अजय सिंह उर्फ राजू

गाजीपुर। जिले में फर्जी प्रमाण पत्र के जरिए शिक्षकों की नौकरी प्राप्त करने वालों का मामला लगातार खुलता जा रहा है। बेसिक शिक्षा अधिकारी ने अब तक करीब 20 से अधिक ऐसे लोगों को पकड़ा है। बेसिक ने सोमवार को बाराचवर ब्लाक स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय ताजपुर में नियुक्त शिक्षिका विभा सिंह को बर्खास्त कर दिया। वहीं संबंधित थाने में इसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने तथा वित्त एवं लेखाधिकारी को वेतन रिकवरी को निर्देशित किया है।

बलिया जिले के ग्राम जिगनी पोस्ट रतसड़ थाना गड़वार की रहने वाली शैलजा सादात ब्लॉक के टांडा अकबरपुर की रहने वाली विभा सिंह के नाम पर नौकरी कर रही थी। जबकि विभा सिंह एक गृहणी है। जबकि वर्ष 2015 में गणित/विज्ञान के अध्यापकों की नियुक्ति में यह विभा सिंह के अभिलेख पर पूर्व माध्यमिक विद्यालय ताजपुर क्षेत्र बाराचवर में फर्जी प्रमाण पत्र के जरिए शिक्षिका बनी थी। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रवण कुमार गुप्त ने बताया कि इस शिक्षिका की विभाग को शिकायत मिली थी। जिसकी जांच के बाद शिकायतकर्ता की बात सही निकली।

ऐसे में फर्जी प्रमाण पत्र के बल पर बनी शिक्षिका विभा को बर्खास्त कर दिया गया। वहीं बाराचवर खंड शिक्षाधिकारी अखिलेश कुमार झा को संबंधित थाने में इसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने को कहा गया है। वहीं बेसिक ने बताया कि अभी और ऐसे शिक्षक है जिन्होंने फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर नौकरी कर रहे है। बातचीत में बताया कि तीन और ऐसे शिक्षकों पर कार्रवाई होना तय है। जिनकी जांच रिपोर्ट आनी है। 


Popular posts from this blog

यूपी में शादी समारोह में बैंड और डीजे पर भी लगा रोक, जिला प्रशासन से नहीं लेनी होगी अनुमति लेकिन........

करवाचौथ पर नहीं दिलाई 12 हजार की साड़ी तो पत्नी ने शो रूम के अंदर ही पति को जमकर पीटा

ब्लाक प्रमुख को सरेराह गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाके में सनसनी