बिजली बिल में गड़बड़ी पर काशी में संतों का आमरण अनशन, बिगड़ी तबियत, मंत्री के आश्वासन पर माने



अश्वनी कुमार श्रीवास्तव

वाराणसी। बिजली विभाग की ओर से पातालपुरी मठ के बिल में की गयी गड़बड़ी के विरोध में आमरण अनशन पर बैठे संतों का आमरण अनशन राज्य धमार्थ मंत्री डा.नीलकंठ तिवारी के आश्वासन के बाद समाप्त हो गया। संतों ने उन्हें एक हफ्ते की मोहलत दी है।  

बिजली बिल में गड़बड़ी एवं विभाग के कर्मचारियों की मनमानी के खिलाफ श्री वैष्णव विरक्त संत समाज के तत्वावधान में आमरण अनशन पर बैठे पातालपुरी सनातन धर्म रक्षा परिषद के पीठाधीश्वर महंत बालक दास की तबीयत बिगड़ने की सूचना पर गुरुवार को धमार्थ राज्यमंत्री डा.नीलकंठ तिवारी ने संतों से मुलाकात कर समस्या को जाना। इसपर संतों ने बिजली विभाग की ओर से की जा रही लापरवाही व वजूल फिजूल बिल भेजने की शिकायत करते हुए इस समस्या को जड़ से समाप्त करने की अपील की।  

महंत ने चेताया है कि जब तक बिजली विभाग के कर्मचारी व अधिकारी अपना रवैया नहीं सुधारेंगे और बिजली बिल की गड़बड़ी को दूर नहीं करेंगे तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा। संतों ने आरोप लगाया है कि सरकार तो संतों या अन्य सभी जनता को बेहतर सुविधा देना चाहती हैं लेकिन बिजली विभाग के अधिकारी व कुछ कर्मचारी सरकार को बदनाम करने के लिए अनाप-शनाप बिल भेज रहे हैं। यही नहीं आए दिन मठों या मंदिरों का कनेक्शन भी काट दिया जा रहा है। इसके कारण भगवान भी कई दिनों तक अंधेरे में रहने को मजबूर हो रहे हैं।

स्मार्ट मीटर की आड़ में कर्मचारी बहुत अधिक बिल भेजकर उपभोक्ताओं को परेशान कर रहे हैं। सभी बातों को सुन मंत्री ने संतों को एक हफ्ते की मोहलत दी कहा कि इस दौरान सभी समस्याओं का समाधान कर मुख्यमंत्री से संतों की मीटिंग भी करा दी जाएगी। मंत्री के आश्वासन के बाद संतों ने आमरण अनशन को समाप्त किया। 

बोले जितेंद्रानंद सरस्वती

अनशन पर बैठे जितेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि मठों व मंदिरों से समाज को नई दिशा देने का कार्य होता है। जब विभ्बााग की ओर से संतों के साथ इस तरह का रवैया अपनाया जा रहा है तो आम लोगों की स्थिति और खराब होगी। इस दौरान श्री बिहारी जी का बड़ा मंदिर के महंत एवं संत समाज के महामंत्री महंत सर्वेश्वर शरण महाराज, महंत ईश्वर दास, महंत बलराम दास, महंत राजाराम दास, महंत रामनारयण दास, महंत नरोत्तम दास, पुराजी सत्यनारायण दास, पुजारी रागेश्वर दास, लक्ष्मण दास, नारायण दास, विजयराम दास आदि थे। 


Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

चकिया में देवर ने भाभी के लाखों के गहने और नगदी उड़ाये, आईपीएल में सट्टे व गलत आदतों में किया खर्च, एएसपी ने किया खुलासा

नलकूप के नाली पर पीडब्लूडी विभाग ने किया अतिक्रमण, सड़क निर्माण में धांधली की सूचना मिलते ही जांच करने पहुंचे सीडीओ, जमकर लगाई फटकार