जानलेवा हुई कमरे में जल रही अंगीठी, दम घुटने से दो बहनों की मौत, तीसरी की हालत गंभीर



जनसंदेश न्यूज़

गोरखपुर। कड़ाके की सर्दी के बीच ठंड से बचने के लिए बंद कमरे में अंगीठी जलाकर सोना एक परिवार के लिए घातक साबित हो गया। जनपद के बड़हलगंज थाना क्षेत्र के मझवलिया गांव में एक ही कमरे में सो रही तीन बहनों में दो की दम घुटने से मौत हो गई। वहीं तीसरी की हालत गंभीर बनी हुई है। सूचना मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों बहनों के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।  

मझवलिया गांव के अवधेश प्रसाद की तीन बेटियां प्रतिमा (20), अंतिमा (18) और निधी (17) एक कमरे में कोयले की अंगीठी जलाकर सोई थीं। सोमवार सुबह कमरे से कोई आवाज नहीं आने पर लोहे के रॉड से दरवाजा तोड़ा गया। अंदर तीनों बहनें अचेत पड़ी थीं। परिवारवाले आनन-फानन तीनों को नजदीकी अस्पताल ले गए। वहां डॉक्टरों ने अंतिमा और निधि को मृत घोषित कर दिया। प्रतिमा का इलाज चल रहा है। 

लोगों के मुताबिक बंद कमरे में ना कोई खिड़की और ना रोशनदान होने के कारण आॅक्सीजन का स्तर काफी कम हो गया। जिसके कारण अंगीठी के धुंए से दो बहनों अंतिमा और निधि का दम घुटने से मौत हो गया। जबकि तीसरी बहन प्रतिमा को गंभीर रूप में गोरखपुर के बड़हलगंज के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 


Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

दहेज के लिए मां को किया बच्चों से दूर, मधुर तरंग होटल मालिक पर गंभीर आरोप, रसूख के दबाव में काम कर रही पुलिस

नये साल में इसी माह से काशीवासियों को मिलने लगेगी अनेकों सौगात, पढ़िए