‘काटेलाल एंड संस’ में था अनोखा और रोमांचक अनुभव, गन्नू और सत्तू की भूमिका निभाने मेघा और जिया!



डाॅ. दिलीप सिंह 

इंदौर। सोनी सब का महत्वरपूर्ण और हल्का-फुल्का मनोरंजक शो  काटेलाल एण्ड संस  दो बहनों गरिमा (मेघा चक्रवर्ती) और सुशीला (जिया शंकर) की प्रेरणादायक कहानी है जो समाज की रूढ़िवादी सोच को चुनौती देते हुए हमेशा मुश्किलों का सामना करने के लिए तैयार रहती हैं। यह शो रूढ़िवादी जेंडर की भूमिकाओं के बारे में है जो हमारे समाज के लोगों की मानसिकता में गहराई से जमी हुई है।  काटेलाल एण्ड संस  की प्रमुख अभिनेत्रियां हाल ही में दो लड़कों गन्नू और सत्तू का रूप धारण किए हुए नजर आई थीं। लुक बदलने के अन्य मामलों से बिल्कुल अलग, मेघा और जिया का बदला हुआ लुक खुद में ही एक अनोखा और रोमांचक अनुभव था। गरिमा और सुशीला दोनों ने ही खुद को गन्नू और सत्तू के रूप में बदलने के अनुभव के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने यह भी बताया कि इस लुक में परफेक्ट दिखने के लिए उन्होंने क्या-क्या किया। 

एक लड़के के रूप में खुद को देखने के बाद उनकी अपनी प्रतिक्रिया क्या रही, इस बारे में मेघा ने कहा, ष्मैं हैरान थी क्योंकि मैं ये सोच रही थी कि पुरुष का लुक मुझपे अच्छा नहीं लगेगा, लेकिन जब मैंने खुद को आईने में देखा, तो अपने अंदर एक बड़ा बदलाव पाया। मेरा चेहरा यहां तक कि मेरी चाल-ढाल भी बदल गई। मैं खुद को एक लड़के के रूप में देखकर बहुत ज्यादा रोमांचित थी।  जिया ने आगे कहा कि यह बहुत ही अच्छा था। मुझे पता था मैं लड़के के रूप में तैयार होकर बहुत अच्छी दिखूंगी। एक तरफ मेरे परिवार और मेरे प्रशंसकों को मेरा ये नया लुक पसंद आया, तो वहीं दूसरी तरफ मेरे दोस्तों ने मेरी बहुत टांग खिचाई की। 

पूरी तरह से नए लुक में आने के दौरान कई चीजें होती हैं। मेघा और जिया ने लड़के का रूप धारण करने के अनुभव के बारे में विस्तार से बताया और हर क्षण की जानकारी दी। मेघा ने कहा, ष्मुझे लगता है यह लुक बहुत ही आकर्षक और कम्फर्टेबल है। हम दोनों ने ही बैगी जीन्स और शर्ट के साथ कुछ एक्सेसरीज भी पहनी है। मुझे लगता है जो चीज सबसे ज्यादा अलग है वो हमारी विग है और हमारे खुद के बालों को कवर करके उस पर विग लगाने की वो पूरी प्रक्रिया। इसके अलावा हमें बालों के कलम भी बनाने पड़े। विग पूरी तरह से टाइट फिट होनी चाहिए इसलिए दिन खत्म होते होते उसकी क्लिप्स बहुत ज्यादा चुभने लगती थी। इसके बावजूद पूरा अनुभव बहुत ही संतोषजनक रहा है।  दूसरी तरफ जिया का इस पर बिलकुल अलग विचार है। उन्होंने कहा, ष्मुझे लुक बहुत पसंद आया और कहीं भी विग की वजह से मुझे बहुत ज्यादा परेशानी नहीं हुई। मुझे इस लुक में आने में लगभग 15-20 मिनट का समय लगा। इस लुक के बारे में मुझे जो चीज सबसे ज्यादा पसंद है वो है इसमें छोटी से छोटी चीजों पर ध्यान रखा गया है, हमारे फॉउंडेशन के कलर से लेकर एक्सेसरीज चुनना और हमारी रिप्ड जींस तक। गन्नू और सत्तू रोहतक की मिट्टी के असली लाल हैं। इसके अलावा, इस लुक के बारे में जो सबसे सहजता वाली बात है, वो है कि पूरा दिन आपको स्पोर्ट्स शूज पहनना है। 

जहां इन दोनों महिलाओं के लिए लुक ट्रांसफॉर्मेशन सिर्फ पहला कदम था, इनका असली संघर्ष वॉइस मॉड्यूलेशन था। उन्हें इस बात को सुनिश्चित करना था कि वह पुरुष की टोन में आराम से अपने डायलॉग्स को बोल सकें। मेघा ने खुलासा करते हुए कहा कि इस लुक में खुद को ढ़ालना तब भी थोड़ा आसान था लेकिन एक लड़के की तरह बोलना और अपने बॉडी लैंग्वेज के साथ लगातार उस चीज को बनाए रखना, इस बदलाव का सबसे मुश्किल हिस्सा था।  जिया ने आगे कहा कि मुझे हमारे बदलाव के पहले हफ्ते के दौरान बहुत संघर्ष करना पड़ा था। जहां हमें अपनी आवाज बदलनी थी लेकिन हमें इस बात को भी सुनिश्चित करना था कि हमारी बोली हरियाणवी हो। इसलिए कभी-कभार, मैं या तो अपनी आवाज या फिर अपनी बोली को भूल जाती थी। निश्चित रूप से यह समय के साथ और ज्यादा बेहतर हो रही है। 

इन दोनों ने आखिर में कहा कि हम ये जो करने की कोशिश कर रहे हैं, यह बिलकुल नया है और जहां हमारे प्रशंसक और दर्शक लगातार हमारा सहयोग कर रहे हैं और  काटेलाल एण्ड संस  की सराहना कर रहे हैं, वहीं हम ये उम्मीद करते हैं वो हमारे इस नए लुक और शो में आए इस ट्विस्ट पर जरूर प्यार दें और गन्नू और सत्तू से भी वो लगातार प्रेरित होते रहें।


Popular posts from this blog

यूपी में शादी समारोह में बैंड और डीजे पर भी लगा रोक, जिला प्रशासन से नहीं लेनी होगी अनुमति लेकिन........

करवाचौथ पर नहीं दिलाई 12 हजार की साड़ी तो पत्नी ने शो रूम के अंदर ही पति को जमकर पीटा

ब्लाक प्रमुख को सरेराह गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाके में सनसनी