फरवरी में होगा पंचायत चुनाव! यूपी बोर्ड की परीक्षाएं मार्च के बजाय अप्रैल में होने की चर्चा



सुरोजीत चैटर्जी

वाराणसी। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव आगामी फरवरी माह में होने की सुगबहुगाहट है। चर्चाओं को मानें तो इस इलेक्शन को देखते हुए यूपी बोर्ड की परीक्षाएं अगले फरवरी-मार्च माह के बजाय अप्रैल माह में करायी जा सकती हैं। पंचायत चुनाव एक ही चरण में कराने के लिए परिसीमन और सीटों की आरक्षण प्रक्रिया जनवरी के दूसरे सप्ताह तक करा लिये जा सकते हैं।

प्रशासनिक सूत्र बताते हैं कि आगामी त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव फरवरी 2021 में कराये जाने की उम्मीद है। पंचायतों की मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन अगले 29 दिसंबर को होना है। इसी क्रम में परिसीमन और सीटों के आरक्षण प्रक्रिया जल्द से जल्द करा लिये जाने की संभावना है। अबतक कयास लगाए जा रहे थे कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव आगामी मई माह में संभावित है। लेकिन गत दिनों लखनऊ से यहां आए सरकारी महकमों के लोगों ने पंचायत चुनाव शीघ्र कराने के संकेत दिये। 

उसके बाद संबंधित विभागों में इसकी तैयारी को लेकर सुगबुगाहट शुरु हो गयी। जानकारों की मानें तो परिसीमन और सीटों के आरक्षण की तैयारी शासन स्तर पर आरंभ हो चुकी है। आगामी त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में ग्राम प्रधान, बीडीसी, ब्लॉक प्रमुख और जिला पंचायत सदस्य के इलेक्शन एक ही चरण में कराने पर मंथन चल रहा है। यदि आगामी फरवरी माह में यह चुनाव कराने का फैसला लिया गया तो यूपी बोर्ड की परीक्षाएं अप्रैल माह में हो सकती हैं। हालांकि इस बारे में आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी।

आंशिक परिसीमन हेतु तिथियों का ऐलान

इस बीच चर्चा के अनुसार अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने पंचायती राज निदेशक सहित समस्त जिले के जिलाधिकारी को ग्राम पंचायत के आंशिक परिसीमन हेतु तारीखों का ऐलान किया। अपर मुख्य सचिव द्वारा दिये गये निर्देश के तहत वर्ष 2015 के सामान्य निर्वाचन के उपरांत नगरीय निकायो के सीमा विस्तार के फलस्वरूप प्रभावित ग्राम पंचायत की जनसंख्या सुनिश्चित करना 4 दिसंबर से 11 दिसंबर, 2020 तथा ग्राम, क्षेत्र व जिला  पंचायत के वार्डों की तैयारी 12 दिसंबर से 21 दिसंबर, आपत्ति प्राप्त हेतु 22 से 26 दिसंबर, आपत्तियों के निस्तारण हेतु 27 दिसंबर 2020 से 2 जनवरी, 2021 तथा अंतिम सूची का निर्धारण 3 जनवरी से 6 जनवरी तक कर लिये जाने हेतु निर्देशित किया गया। हालांकि की इसकी आधिकारिक पुष्‍टि नहीं हो पाई है। 

Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

कुशवाहा कांतःअनुभूतियों में हमेशा जिंदा रहेंगे कालजयी साहित्य के अमर शिल्पी

सेक्स पावर बढ़ाती है गोरखमुंडी, जानिए इसके सेवन का तरीका और फायदा