नंबर लगा चुके किसानों को कम खरीद वाले क्रय केंद्रों पर भेजें, मंडलायुक्त ने की क्रय केंद्रों की समीक्षा

- नेहिया और साधोपुर के धान क्रय केंद्र अब नजदीकी पहुंच मार्ग पर कराए जाएंगे शिफ्ट

- उपज बेचने के लिए सेंटर पर पहुंचने वाले काश्तकारों की अब वीडियो बनाने के निर्देश



सुरोजीत चैटर्जी

वाराणसी। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने निर्देश दिया है कि वाराणसी जनपद के जिन सरकारी धान क्रय केंद्रों पर कम खरीद हुई है, वहां उन किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए भेजा जाय जिन्होंने अपने निकट के क्रय केंद्रों पर नंबर लगाकर बारी आने का इंतजार कर रहे हैं। धान खरीद के लिए फरवरी तक की प्रतीक्षा न करें। उन्होंने पिंडरा क्षेत्र के नेहिया और बड़ागांव के साधोपुर धान क्रय केंद्र को किसानों की सुविधा के लिए बदलकर नजदीक के पहुंच मार्ग के नजदीक स्थापित कराने को कहा है। साथ ही पिंडरा विधानसभा क्षेत्र में सहकारी समितियों के और 2-3 और धान क्रय केंद्र खोले जाएंगे।

मंडलायुक्त अनुश्रवण कक्ष में सोमवार को श्री अग्रवाल जनपद में धान खरीद की प्रगति और क्रय केंद्रों की स्थिति की समीक्षा बैठक कर रहे थे। उन्होंने केंद्र प्रभारियों और संबंधित अफसरों के सख्त निर्देश दिये कि धान क्रय केंद्रों पर किसानों को किसी भी प्रकार की अशाुविधा का सामना न करना पड़े। मौके पर आने वाले काश्तकारों का परिचय-पत्र मंगवाकर रखें और सेंटर पर पहुंचने वाले किसानों छोटा वीडियो भी बनाएं।



श्री अग्रवाल ने क्रय केंद्रों का नियमित निरीक्षण करने पर बल दिया। पिंडरा विधानसभा क्षेत्र के धान क्रय केंद्रों पर किसानों को एक-एक माह का नंबर दिए जाने की शिकायत पर उन्होंने गहरा रोष व्यक्त किया। साथ ही चेताया कि यदि क्रय केंद्रों पर तैनात कर्मचारियों की बदनियति या शिथिलता प्रकाश में आयी तो विभागीय कार्रवाई के बजाय आपराधिक कार्रवाई तय होगी।

उन्होंने मुअयाना करने वाले अधिकारियों से कहा कि क्रय केंद्रों पर कम से कम एक घंटे का वक्त दें और काश्तकारों के बारे में सूक्ष्म जानकारी करें। यह भी पता करें कि किसान से किसके माध्यम से किसान ने धान बेचा है। जिन क्रय केंद्रों पर कम खरीद हुई है और जिन क्रय केंद्रों पर धान बेचने के लिए अधिक किसानों का नंबर लगा है, वहां की लिस्ट बनाकर संबंधित किसानों को कम क्रय केंद्र वाले नजदीकी सेंटर पर भेजें। बैठक में विधायक डॉ. अवधेश सिंह, मंत्री अनिल राजभर के प्रतिनिधि पवन चैबे, आरएफसी अरुण कुमार सिंह, एआर कोआॅपरेटिव विनोद कुमार सिंह समेत सभी केंद्र प्रभारी आदि उपस्थित रहे।



कम खरीद पर जताया रोष

जनपद के सरकार क्रय केंद्रों पर धान खरीद के लिए त य 40500 एमटी लक्ष्य के सापेक्ष अब तक 2735 किसानों से 13480.42 एमटी धान की खरीद हो चुकी है। यह खरीद निर्धारित टार्गेट का 33.28 फीसदी है। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने सोमवार के इस बारे में हुई समीक्षा बैठक के दौरान लक्ष्य की तुलना में कम प्रगति पर नाराजगी जतायी। जिले में अब तक 6879 किसानों ने खाद्य विभाग के पोर्टल पर अपना धान बेचने के लिए पंजीकरण कराया है।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल