आठ माह में ग्रामीणों के व्यवहार में लाएं परिवर्तन, नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने सेवापुरी विकास खंड के लिए दी टाइम लाइन

- बोले: गांव के स्वयंसेवक और पंचायती राज संगठन के लोग इसे बनाएं जनआंदोलन

- बीएचयू के साथ मिलकर रीजनिंग कार्यशाला आयोजित कर बिहेवियर चेंज पर हो कार्य



सुरोजीत चैटर्जी

सेवापुरी। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना है कि एक विकास खंड को शत-प्रतिशत संतृप्त कर ब्लॉक के लोगों में व्यवहार परिवर्तन लाते हुए एक आर्दश गांव का मॉडल प्रस्तुत हो। उस मॉडल को राज्य और देश के अन्य विकास खंडों में लागू कराया जाए। संबंधित सभी विभागों के अफसरों को मॉडल ब्लॉक सेवापुरी में छह से आठ माह के यह बदलाव लाना है। इस विकास खंड को मॉडल ब्लॉक बनाने के लिए अब कराये गये कार्य सराहनीय हैं।

शनिवार को सेवापुरी विकास खंड के दौरे पर आए अमिताभ कांत के ब्लॉक मुख्यालय सभागार में आयोजित बैठक में यह कहा। उन्होंने डीएम कौशल राज शर्मा एवं सीडीओ मधूसूदन हुल्गी के मार्गदर्शन में विकास खंड में कराए गये कार्यों को सराहते हुए स्थानीय सभी अफसरों और डेवलपमेंट पार्टनर्स को बधाई दी। साथ ही कहा कि सब मिलकर ऐसा कार्य करें और ऐसा आदर्श गांव बनाएं कि भविष्य में यहां की जनता ही इसे चलाए।

इस मौके पर ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव एनएन सिन्हा ने आउट कम लाने व उसकी ट्रैकिंग पर जोर देते हुए सुझाव दिया कि इम्लिमेंटल प्रॉसेस और प्रोग्रेस को मॉनिटर करें। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों में व्यवहार परिवर्तन लाने के लिए गांव के वॉलंटियर्स, पंचायतीराज संगठन के लोग मिलकर जनआंदोलन बनाएं तथा इसे चुनौती के तौर पर लें। समाज के प्रत्येक वर्ग को जोड़कर सबका विकास होना चाहिए। इसकी निगरानी हो। बीएचयू संग मिलकर रीजनिंग वर्कशॉप आयोजित कर व्यवहार परिवर्तन करें। प्रधानमंत्री मोदी की इस परिकल्पना को छह से आठ महीनों में पूर्ण कर दिखाएं।

इस मौके पर कुछ अफसरों ने सेवापुरी ब्लॉक के सभी कार्य चार महीने में संतृप्त कर लिये जाने का अपना लक्ष्य बताया जिस पर आयोग के सीईओ सहमत नहीं हुए। उन्होंने कहा कि इस प्रकार टारगेट तय कर कार्य करना यह गलत है। विकास खंड की सभी 87 ग्राम पंचायतों को सौ प्रतिशत संतृप्त तभी होगा जब तक लोगों के व्यवहार में परिवर्तन न आ जाए। इसके लिए हरएक महकमे को एक जनआंदोलन चलाने की जरूरत है। 

मीटिंग में डीपीआरओ शाश्वत आनंद सिंह ने 35 हजार परिवारों के लिए ब्लॉक में 25 हजार डस्टबिन लगा दिये जाने की जानकारी दी। साथ ही बता या कि सफाईकर्मी और कम्युनिटी के जरिये कूड़ा निस्तारण हो रहा है। 19 डब्ल्यूएसपी पर कार्य जारी है। शत-प्रतिशत सामुदायिक शौचालय पूर्ण हो चुके हैं। इस मौके पर डीएमईओ के डीजी डॉ. शेखर बोनू, डीजी गया प्रसाद, मिशन निदेशक सुजीत कुमार आदि भी रहे। संचालन डीआरडीए के परियोजना निदेशक उमेश मणि त्रिपाठी ने किया।


होमी भाभा हॉस्पिटल से हो रहा करार: डीएम

- सेवापुरी ब्लॉक मुख्यालय सभागार में शनिवार को हुई बैठक में डीएम कौशल राज शर्मा ने नीति आयोग के सीईओ को अबतक कराए गये कार्यों का ब्योरा पॉवर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के जरिये दिया। जिसमें हेल्थ, सेनिटेशन, न्यूट्रीशन व एजुकेशन में कराए गये कार्य शमिल रहे। साथ ही आगे होने वाले प्रयासों की जानकारी दी। साथ ही बताया कि अर्ली सर्वाइकल कैंसर स्क्रीनिंग कार्य का आज एमओयू होमी भाभा कैंसर हॉस्पिटल के साथ होगा। अस्पताल के साथ किया जायेगा। दूसरी ओर, बैंक सखियां डिजिटल पेमेंट सुविधा घर पर मुहैया कराएंगी। जैविक खेती के लिए 141 कृषक तैयार हैं। लांच आॅफ पेरेंट्स हैंडबुक फॉर रमिडियल लर्निंग का कार्य जारी है। आगामी दो माह में स्वच्छता मेला लगेगा।



आशा वर्करों को दिया टैब

- सेवापुरी विकास खंड मुख्यालय सभागार में शनिवार को हुई बैठक के दौरान नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने आशाओं को टैब उपलब्ध कराया। उन्होंने कहा कि मलेरिया व कालाजार का शत प्रतिशत स्क्रीनिंग कराएं। प्राइवेट अस्पताल व नर्सिंगहोम अपने हॉस्पिटल में जन्मे बच्चों की सूचना स्वास्थ्य को उपलब्ध कराएं। मौके पर पेरेंट्स हैंडबुक लांच हुआ। रिफ्रेशर कोर्स कर चुके कई कामगारों को सर्टिफिकेट दिया गया। ग्राम प्रधान फैसिलिटेशन पुरस्कार भी बांटे गये। साथ ही किसान अजय कुमार सिंह व पंकज कुमार सिंह जिला कृषि अधिकारी सुभाष मौर्य ने ट्रैक्टर की चाबी सौंपी।



भुगतान न कर पाने वालों को लौटाएं नहीं

सेवापुरी। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने ब्लॉक मुख्यालय में बैठक के बाद विकास खंड के हाथी गांव पहुंचे। वहां के सामुदायिक शौचालय पर तैनात महिला स्टाफ राधा देवी फीडबैक लिया। जब उन्होंने पूछा कि इस कम्यूनिटी टॉयलेट में आने वाले लोग पैसा देते हैं कि नहीं, इस पर राधा ने बताया कि कई लोग पैसा नहीं देते। इस पर सीईओ ने कहा कि जिनके पास पैसा नहीं है और इस शौचालय का उपयोग करना चाहते हैं, उन्हें लौटाने के बजाय इसका उपयोग करने दिया जाय। साथ ही उन्हें यह बताया जाय कि अगली बार भुगतान के लिए वह पैसा लेकर आएं। अमिताभ कांत ने ‘मेरा घर-मेरा स्कूल’ व मुहल्ला क्लास का जायजा लिया। ट७ीचर और बच्चों ने बातचीत की। इसी क्रम में उन्होंने आयुष्मान आरोग्य स्वास्थ्य केंद्र का मुआयना किया।


Popular posts from this blog

यूपी में शादी समारोह में बैंड और डीजे पर भी लगा रोक, जिला प्रशासन से नहीं लेनी होगी अनुमति लेकिन........

करवाचौथ पर नहीं दिलाई 12 हजार की साड़ी तो पत्नी ने शो रूम के अंदर ही पति को जमकर पीटा

ब्लाक प्रमुख को सरेराह गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाके में सनसनी