एमएलसी निर्वाचन: मतपेटिकाओं में कैद हुई 34 प्रत्याशियों की किस्मत, इस जिले में इतने प्रतिशत पड़े वोट, तीन को आयेंगे रिजल्ट

जिले में खंड शिक्षक सीट के लिए 65.86 फीसदी और स्रातक के लिए कुल 32.44 प्रतिशत पोलिंग

- शंतिपूर्ण ढंग से विधान परिषद के वाराणसी खंड स्नातक एवं शिक्षक सीट पर मतदान संपन्न

- ग्रामीण इलाकों की तुलना में शहरी क्षेत्र के मतदान केंद्रों के बूथों पर अधिक दिखे मतदाता

- स्रातक सीट के लिए 22 प्रत्याशी और शिक्षक सीट पर एक दर्जन उम्मीदवार हैं इस मैदान में



सुरोजीत चैटर्जी

वाराणसी। विधान परिषद के वाराणसी खंड स्रातक एवं शिक्षक सीटों के लिए मंगलवार को सुरक्षा के कड़े इंतजामों के लिए वाराणसी जनपद में शांतिपूर्ण ढंग से वोट डाले गये। जिला निर्वाचन कार्यालय के अनुसार जिले में खंड शिक्षक सीट के लिए कुल 65.86 फीसदी और स्रातक सीट के लिए कुल 32.44 प्रतिशत वोटरों ने अपने-अपने मताधिकार का प्रयोग किया। ग्रामीण इलाकों की अपेक्षा शहरी क्षेत्र के बूथों पर कई जगह मतदाताओं की कतार दिखी। इस बार स्रातक सीट की तुलना में शिक्षक सीट के लिए अधिक उत्साह दिखा। प्रत्येक मतदान केंद्र के बूथों पर बीएलओ वोटर लिस्ट लेकर बैठे थे। जबकि पोलिंग सेंटरों के बाहर कुछ दूरी पर प्रत्याशियों के अभिकर्ताओं के स्टॉल लगे थे। इस निर्वाचन में स्रातक सीट पर 22 और शिक्षक सीट के लिए एक दर्जन प्रत्याशी मैदान में हैं। तीन दिसंबर को पहड़िया मंडी में सुबह आठ बसे मतगणना आरंभ होगी।

जनपद में स्रातक सीट के लिए कुल 48 हजार 437 वोटरों में से 15 हजार 715 मतदाताओं ने वोट डाले। जबकि खंड शिक्षक सीट के लिए जिले के कुल सात हजार 511 मतदाताओं में से चार हजार 945 वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। सुबह आठ बजे से शुरु पोलिंग के आरंभिक चरण में बूथों पर वोटरों का आगमन कम रहा। दिन चढ़ने पर मतदाताओं की संख्या भी बूथों पर अधिक दिखने लगी। बूथों में मतदाताओं को पेन और मोबाइल फोन आदि लेकर जाने पर रोक थी। सबसे निकट के मतदान केंद्रों में से पांडेयपुर स्थित पोलिंग सेंटर पर स्रातक सीट के लिए 30.20 फीसदी और शिक्षक सीट के लिए 62.26 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले। 

रवींद्रपुरी कॉलोनी स्थित गोपीराधा इंटर कॉलेज, क्वींस कॉलेज लहुराबीर, कटिंग मेमोरियल इंटर कॉलेज नदेसर और तहसील सदर आदि में मतदाताओं की कतार दिखी। पिंडरा प्रतिनिधि के अनुसार स्थानीय ब्लॉक मुख्यालय पर बनाए गये मतदान केंद्र पर गहमागहमी नहीं दिखी। कई बूथों पर मतदाताओं की उपस्थिति बहुत कम रही। वोटरों की उदासीनता के चलते अन्य पोलिंग सेंटरों पर भी प्रत्याशियों के समर्थकों और अभिकर्ताओं की अधिक आवाजाही रही। एसडीएम, एसपीआरए, तहसीलदार व इंस्पेक्टर फूलपुर दिनभर मतदान केंद्रों का चक्रमण कर रहे थे। पूर्वाह्न दस बजे तक ब्लॉक मुख्यालय पर स्नातक सीट के लिए मात्र 2.67 फीसदी और शिक्षक सीट के लिए 12 प्रतिशत वोट पड़े थे।

बड़ागांव प्रतिनिधि के मुताबिक स्थानीय ब्लाक मुख्यालय परिसर में स्थापित मतदान केंद्र पर एसडीएम, बीडीओ, समेत पुलिस अफसरों की निगरानी रही। यहां स्नातक सीट के लिए 986 एवं शिक्षक के लिए 267 वोटरों ने मतदान किया।

कक्ष एक, बूथ तीन

पिंडरा। स्थानीय विकास खंड मुख्यालय पर बने मतदान केंद्र में स्थापित सात में से तीन बूथ एक कमरे में बना दिये जाने से वोटर हलकान थे। एक ही कक्ष में तीन मतदेय स्थल होने के चलते मौके पर मतदाताओं की लंबी कतार लगी। अव्यवस्था की स्थिति को पुलिसकर्मियों ने संभाला। यहां स्नातक सीट के लिए छह बूथ और शिक्षक सीट के लिए एक बूथ बना था। 

स्नातक सीट के प्रत्याशी

- आशुतोष सिन्हा (सपा), केदारनाथ सिंह (भाजपा), लोकेश कुमार (भारतीय जन जन पार्टी) समेत निर्दल उम्मीदवारों में अनिल कुमार, अरविंद कुमार, अरविंद कुमार सिंह, करूणाकांत मौर्य, गणेश गिरी, गोपाल सिंह, चंद्र प्रकाश, नागेश्वर सिंह, पंकज कुमार, फौजदार सिंह, ब्रह्मदेव, राजेश यादव, राम जी, राहुल कुमार सिंह, विनय कुमार त्रिपाठी, संजीव कुमार सिंह, संतोष कुमार तिवारी, संतोष पांडेय तथा सूबेदार।

शिक्षक सीट के उम्मीदवार

- लालबिहारी यादव (सपा) और निर्दल प्रत्याशियों में डॉ. कृष्ण मोहन यादव, चेतनारायण सिंह, जीतेंद्र कुमार सिंह, धर्मेंद्र कुमार, प्रमोद कुमार मिश्र, फरीद अंसारी, बृजेश, रजनी द्विवेदी, रमेश सिंह, राजेंद्र प्रताप सिंह और संजय कुमार सिंह




Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल