दुकान में सो रहे युवक की धारदार हथियार से प्रहार कर नृशंस हत्या, मचा कोहराम

फोरेसिंक टीम ने घटनास्थल से लिया नमूना



बबलू शुक्ला

सहसों/प्रयागराज। थरवई थाना क्षेत्र के चन्दरपुर उर्फ बसमहुआ गांव में बीती रात कबाड़ की दूकान पर सो रहे युवक की हत्यारों ने धारदार औजार से सिर में हमला कर हत्या कर दी। मृतक के जीजा की सूचना पर पुलिस के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे और छानबीन शुरू किया। परिजनों ने व्यवसायिक विवाद को लेकर हत्या का आरोप लगाते हुए नामजद तहरीर दी है। पुलिस ने पूछताछ के लिए दो युवकों को हिरासत में लिया है। 

जानकारी के मुताबिक कौधियारा थाना क्षेत्र के छोड़िया राम का पूरा गांव निवासी राजू उर्फ सलीम 28 वर्ष पुत्र मो0 इदरीश मुंबई में अपने भाई चांदबाबू के साथ रहा करता था। लॉकडाउन के दौरान दोनों भाई पैतृक गांव छोड़िया आ गये थे। बेरोजगारी के चलते बीते दस दिन पूर्व मो0 सलीम अपने जीजा मो0 हुसैन उर्फ हसनैन निवासी भोपतपुर थाना थरवई की चन्दरपुर उर्फ बसमहुआ गांव स्थित कबाड़ की दूकान पर आकर देखरेख करने लगा। 

रोज की भाति वह कबाड़ की दूकान पर मौजूद था। रात्रि के नौ बजे के करीब उसके जीजा मो0 हुसैन उर्फ हसनैन ने उसे भोजन करने के लिए टिफिन पहुंचाया। भोजन करने के बाद उसने टिफिन को झोले सहित चारपाई के बगल गैलरी की दिवाल में टांग कर सो गया। रात्रि के वक्त पहुंचे हत्यारों ने उसके सिर में धारदार हथियार से हमला कर मौत की नींद सुला दी। 

घटना की जानकारी पाकर थरवई थानाध्यक्ष राकेश चौरसिया पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और हत्या की सूचना उच्चाधिकारियों को दी। सूचना पाकर एसपी गंगापार धवल जायसवाल, सीओ फूलपुर राम सागर मौके पर पहुंचे और घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद फोरेसिंक एवं डॉग स्क्वायड टीम को बुलाया। घटनास्थल पर पहुंची फोरेसिंक टीम ने रक्त का नमूना लिया। 



खोजी कुत्ता मृतक की चारपाई से दक्षिण दिशा से होते हुए पूर्वी छोर पर स्थित पक्की सड़क से होकर फाफामऊ-सहसों मुख्य मार्ग पर आकर रूक गया। पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर कब्जे में ले लिया और पीएम हेतु एसआरएन भेज दिया। मृतक के जीजा मो0 हसनैन ने व्यवसायिक प्रतिद्वंदिता का आरोप लगाते हुए झूंसी थाना क्षेत्र के मलावां गांव निवासी युवक के विरूद्ध नामजद तहरीर दी है। पुलिस मामला दर्ज कर जांच में जुट गई है। 

दो भाइयों में बड़ा था सलीम 

मृतक सलीम दो भाइयों में बड़ा था, वह अपने छोटे भाई चांद बाबू के साथ मुबंई में रहकर कारोबार कर गृहस्थी चलाता था। कोविड-19 महामारी के दौरान वह घर आकर रूक गया। मृतक की शादी पांच वर्ष पूर्व माजिदा के साथ हुई थी। बेटे के शव के पास खड़े रो रहे पिता इदरीश ने बताया कि आखिर बेटे द्वारा दी गई सौगात बहू के पेट मे पल रहे बच्चे का क्या होगा? कहते हुए दहाड़ मारकर रो पड़े।  

हसनैन को रास्ते से हटाने के इरादे से आये थे हत्यारे 

प्रयागराज। व्यवसायिक प्रतिद्वंदिता को लेकर तथा सलीम की हत्या को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं है। हसनैन ने बताया कि उसकी दुकान पहले बसमहुआ गांव स्थित प्राइमरी पाठशाला के पास में थी, परन्तु लगभग दो माह पूर्व उसने बसमहुआ गांव की ओर जाने वाले गेट के पास दुकान खोल लिया था। जिसे लेकर पास में कबाड़ की दूकान चलाने वाले दूकानदार ने एतराज किया था। आरोप है कि लगभग दस दिन पूर्व उक्त दूकानदार ने हसनैन को धमकी भी दी थी। जिससे आशंका व्यक्त की जा रही है कि हत्यारों ने हसनैन के बजाय धोखे से सलीम के सिर में धारदार हथियार से हमला कर हत्या कर दी।




Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल