दरोगा, कानूनगो और लेखपाल के सामने ही दबंगों ने उखाड़ दिया दलित का छप्पर, डीएम-एसपी से लगाई न्याय की गुहार



अजय सिंह उर्फ राजू

गाजीपुर। क्षेत्र के बरहपुर गांव के दबंगोें ने दलित का छप्पर गिरा दिया। जिसके बाद पीड़िता ने पुलिस अधीक्षक से न्याय के लिए गुहार लगाया है। थाना नंदगंज के बरहपुर गांव के मनबढ़ दबंगों ने दरोगा, कानूनगो और लेखपाल के सामने बिना किसी पैमाईश व बिना आदेश के दलित की झोपड़ी गिरा दिए थे। जिसके बाबत पीड़ित पक्ष ने जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाया था। 

पीड़िता चन्दा देवी पत्नी राजा ने बताया कि गांव के ही ठाकुर शमशेर सिंह और नन्दू सिंह से जमीनी मुकदमा सिविल न्यायालय में चलता है। जिसमे शमशेर सिंह पीड़िता की आबादी और सहन की जमीन जबरदस्ती अपने अराजी संख्या-697 का रकबा बताकर जबरदस्ती कब्जा करने के फिराक में है। पीड़िता के सहन में स्थित रिहायशी छप्पर दो अक्टूबर को दिव्यांश सिंह पुत्र शमशेर सिंह, गुड्डू पुत्र दया सिंह अपने दबंगई से नंदगंज थाना के दरोगा बलवन्ता उनके हमराहियों व क्षेत्र के लेखपाल और कानूनगो के सामने बिना पैमाइश के गिरा दिया था।

विरोध करने पर पीड़िता के पति राजा राम को दरोगा बलवन्ता व मौजूद सिपाहियों  के द्वारा जाति सूचक शब्दों के द्वारा अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाया। इस संदर्भ में पीड़ित पक्ष ने जिला अधिकारी व पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाया था। लेकिन कोई कार्यवाई नही हुई, उसके बाद पीड़िता की बहू शीला के द्वारा उसी झोपड़ी वाली जगह पर बास और तिरपाल से झोपड़ी बना रही थी। उसी समय फिर गाँव के दबंग पीड़िता के बहू शिला पर गोलबन्द होकर टूट पड़े और उसकी झोपड़ी फिर थोड़ फोड़ कर गिरा दिये। पीड़िता ने बताया की जब इसकी शिकायत लेकर थाना नंदगंज पहुचने पर दरोगा द्वारा उसे जाति सूचक जैसे अभद्र भाषाओं का प्रयोग करते हुए उसे भगा दिया। 




Popular posts from this blog

ब्लाक प्रमुख को सरेराह गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाके में सनसनी

1.5 करोड़ लेकर पत्नी ने किया पति का सौदा, किया प्रेमिका के हवाले

मेरी करनी का फल है लिखकर महिला दरोगा ने फंदे पर झूलकर दी जान