जहरीली शराब से सात की मौत, हड़कंप, आरोपियों पर गैंगस्टर लगा संपत्ति जब्त करने का निर्देश



अनूप मिश्रा

फूलपुर/प्रयागराज। सरकारी मदीरा का सेवन करने की कीमत शुक्रवार को फूलपुर क्षेत्र के ग्रामीणों को अपनी जान गंवाकर चुकानी पड़ी। एक घंटे में एक के बाद एक हुई सात मौतों से क्षेत्र में हड़कंप मच गया। वहीं दर्जनों की हालत गंभीर बनी हुई है। मौके पर मय फोर्स पहुंची फूलपुर पुलिस गांव में शांति व्यवस्था बनाए रखने के साथ ही घायलों को इलाज के लिए भेजवाया।



फूलपुर कोतवाली क्षेत्र के अमिलिया गांव में सरकारी शराब का ठेका चलता है। जिस पर गांव के साथ ही आस पास के शराब पीने वाले अधिकांश लोगों की भीड़ जमा होती है। आरोप है कि गुरुवार देर शाम उक्त गांव निवासी बसंत लाल पटेल गांव के सरकारी ठीके से शराब लेकर पी। जिसकी रात में अचानक तबियत खराब हो गई। स्वजनों ने उपचार कराया किन्तु शुक्रवार सुबह उसकी मौत हो गई। 

उसी गांव के शम्भू नाथ मौर्य 48 जो रेलवे विभाग में ठेकेदारी पर कूलर आदि लगाने का काम करता था, वह भी शुक्रवार को उसी सरकारी ठेके से शराब लेकर पिया और शाम होते होते उसकी भी तबियत खराब हो गई। जब तक स्वजन उसका उपचार कराते उसने भी दम तोड़ दिया। यही नहीं उक्त गांव के राजबहादुर 51वर्ष, प्रभुनाथ पटेल 49 एवं प्यारे लाल यादव 48 भी उसी सरकारी ठेके से शराब पीने के चलते अचानक शाम को बीमार पड़ गए। जिन्हें परिजनों ने उपचार के लिए विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया। 



जहरीली शराब से मौत होने की घटना जब पुलिस को हुई तो अधिकारी आनन-फानन में गांव पहुंची। पुलिस गांव में चल रहे सरकारी ठेके पर उपद्रव कर रहे ग्रामीणों को समझाने बुझाने में जुटी रही। ग्रामीणों का आरोप है कि उक्त सरकारी शराब का ठेका श्याम बाबू जायसवाल चलाता है। जो नकली शराब बेचता है। इस सम्बन्ध में कोतवाली प्रभारी फूलपुर अमित सिंह से पूछने पर उन्होंने बताया कि जानकारी होने पर मौके पर पहुंच कर लोगों को समझाने का प्रयास किया जा रहा है। 

ग्रामीण सरकारी ठेके की शराब पर आरोप लगा रहे है। मृतकों के शव को पीएम के लिए भेजा जा रहा है, जब तक पीएम रिपोर्ट न आ जाए। तब का शराब पीने से मौत कि बात नहीं कही जा सकती है। पंचायत चुनाव नजदीक है, लोग कुछ भी कह कर अफवाह फैला सकते है। वहीं घटना की जानकारी उच्च अधिकारियों को हुई तो जिलाधिकारी भी की थानों की फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे।



दोषियों की संपत्ति नीलाम कर पीड़ितों को मिलेगा मुआवजा

जहरीली शराब से मौत के मामले में सीएम योगी ने सख्त रूख अख्तियार किया है। प्रयागराज में हुई मौतों पर सीएम योगी ने निर्देश दिया है कि जहरीली शराब बेचने वालों पर प्रशासन गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करे। यही नहीं जो भी इस मामले में दोषी पाए जाएं, उनकी संपत्ति को प्रशासन द्वारा जब्त किया जाए और इसके बाद संपत्ति नीलाम कर पीड़ितों को मुआवजा दिया जाए।



प्रियंका गांधी ने सरकार पर साधा निशाना

यूपी में जहरीली शराब से लगातार हो रही मौतों पर प्रियंका गांधी ने सरकार पर निशाना साधा और कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार शराब माफियाओं पर शिकंजा कसने में नाकाम है, जिसके कारण यूपी में आये दिन जहरीली शराब से मौतों की घटनाएं सामने आती है। उन्होंने इस संबंध में सरकार से ट्वीट कर सवाल किया कि आखिर यूपी में जहरीली शराब से होने वाली मौतों का जिम्मेदार कौन है?

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया कि यूपी में लखनऊ, फिरोजाबाद, हापुड़, मथुरा, प्रयागराज समेत कई जगहों पर जहरीली शराब से मौतें हुई है। आगरा, बागपत, मेरठ में जहरीली शराब से मौतें हुई थी।

आखिर क्या कारण है कि कुछ दिखावटी कदमों की बजाय सरकार जहरीली शराब माफियाओं पर कार्रवाई करने में नाकाम रही है? कौन है जिम्मेदार?


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल