अधिकारियों का खेल, 45 घरों को ना मिला राशन और ना मिली शौचालय, पेंशन के नाम पर अवैध वसूली भी



अजय सिंह उर्फ राजू

दुल्लहपुर/गाजीपुर। जखनियां ब्लाक स्थित मुस्तफाबाद उर्फ बड़ागांव के दलित बस्ती में लोगों को राशन और शौचालय नहीं मिला है। इस मामले को लेकर आक्रोशित ग्रामीणों ने सरकार के खिलाफ गांव में जमकर प्रदर्शन किया।

मुस्तफाबाद गांव निवासी दलित बस्ती के 45 घरों में शासन की तरफ से मिलने वाले योजनाओं का लाभ किसी को अब तक नहीं मिल सका है। ग्रामीणों ने गांव में हाथ उठाकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर आरोप लगाया कि गांव में 45 घरों में राशन नहीं मिला। सिर्फ दो घरों में शौचालय का निर्माण कराया गया है। जिसमें शौचालय का छत और गडढ़े आज तक नहीं बने है। इसके अलावा बस्ती के लोगों के लिए रास्ता, सोलर लाइट, पेयजल, वृद्धा पेंशन, विधवा पेंशन सहित कई ऐसे मूलभूत सुविधाएं नहीं मिली है। 

आश्चर्य की बात है कि दर्जनों विधवा महिलाओं से विधवा पेंशन के नाम पर 1400 रुपये की वसूली की गई। लेकिन आज तक विधवा महिलाओं को पेंशन नहीं आया। विधवा महिलाओं ने बताया कि ब्लॉक और थाने से लेकर बैंक का चक्कर लगाती रही, लेकिन उन्हें विधवा पेंशन नहीं मिला। वहीं शौचालय सूची में नाम दर्ज है, पैसा उतर गया है, लेकिन लाभार्थी को शौचालय नहीं मिला। 

जिलाधिकारी एमपी सिंह से भी ग्रामीण शपथ पत्र  के साथ जांच के लिए गुहार लगा चुके है। प्रदर्शन करने वाले ग्रामीणों में देवराम, हरिलाल, देवनाथ, रामधनी, प्रेमचंद, राम चरण, भैरू, अवतार, नंदलाल, बलराम, हरिप्रसाद, लेहरु, शिव शंकर, शांति देवी, फूला देवी, शकुंतला देवी, शारदा देवी सहित काफी लोग उपस्थित रहे। खण्ड विकास अधिकारी सन्दीप श्रीवास्तव ने कहा कि गांव में हुए अनियमितता की  जांच की जाएगी, दोषी पाए जाने पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी। 




Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल