वाराणसी कैंट स्‍टेशन पर ठेकेदारों से परेशान हुए वेंडर, जानिएं क्‍या?


ठेकेदारी की तिल्सम में जकड़ा वेंडरों का जीवन, कैंट स्टेशन का हाल


बीते दिनों विरोध में पांच घंटे तक काम किया ठप


नियमों की अनदेखी कर वेंडरों को करते हैं प्रताड़ित


अधिकारियों के आश्वासन पर फिर से लगाया ठेला



अश्वनी कुमार श्रीवास्तव
वाराणसी। कैंट स्टेशन के प्लेटफार्म पर ठेला खुमचा लगाने वाले वेंडरों ने अपने ठेकेदार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए बीते दिनों पांच घंटे काम ठप कर अपना आक्रोश जताया। स्थानीय अधिकारियों के आश्वासन के बाद ही सभी ने प्लेटफार्म पर ठेला लगाना शुरू किया। 


कैंट स्टेशन पर एक नंबर से लगायत नौ नंबर तक के प्लेटफार्म पर ठेला व खुमचा लगाने वाले वेंडरों ने अपने ठेकेदार पर प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए बीते दिनों काम को ठप कर दिया। वेंडरो का कहना था कि ठेकेदार रेलवे में बनाए गए नियमों की अनदेखी कर उन्हें लगातार प्रताड़ित करते हैं। 



तीन ठेकेदार 28 वेंडरो को करते हैं संचालित
कैंट स्टेशन पर तीन ठेकेदार की ओर से लगभग 10 खोमचा व चार ट्राली संचालित होती है। इनमें दोनों शिफ्ट में कुल 28 वेंडर कार्यरत हैं। ठेकेदार की ओर से प्रति खोमचा 13 सौ रुपए प्रति दिन लिया जाता है वहीं ट्रॉली वालों से चार हजार रुपए प्रति दिन। 



वेंडरों ने खोला मोर्चा 
ठेकेदार पर प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए सभी वेंडरों ने मोर्चा खोलते हुए कहा कि ट्रेनों का संचालन व यात्रियों का आगमन कम होने के बाद भी प्रतिदिन लेने वाले किराए में कमी नहीं की जा रही है। जहां वेंडरों के सामने भूखमरी की नौबत आ गयी है। वहीं जबरदस्ती किराया मांगा जा रहा है। आरोप लगाया कि रेलवे नियमावली में साफ लिखा है कि ठेकेदार की ओर से वेंडरों को ठेला,खुमचा,तराजू व फल दिया जाएगा और बिक्री के हिसाब से कमीशन तय होगा लेकिन इसको दरकिनार करते हुए ठेकेदार की ओर वेंडरों को कुछ भी मुहैया नहीं कराया जाता और कमीशन छोड़ प्रतिदिन के हिसाब से रुपए लिया जाता है। जीआरपी प्रभारी अशोक कुमार दुबे ने सभी ठेकेदारों को बुलाकर इस मामले में बात करते हुए हिदायत दी कि किसी भी तरह से वेंडरों को प्रताड़ित ना किया जाये।  


इस मामले की जांच तीन सदस्ययीय टीम कर रही है ठेकेदार को बुलाया गया है। वेंडरों को ठेला लगाने के लिए कहा गया है। इस मामले में रेलवे की ओर से ठेकेदार व वेंडर के बीच जो भी नियम बनाए गए हैं उसी के अनुसार कार्य किया जाएगा। अगर वेंडर का ठेकेदार पर लगाया गया आरोप सही है तो कार्रवाई की जाएगी। -आनंद मोहन,स्टेशन निदेशक,कैंट वाराणसी।



Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल