हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज करने वाले तीन वैज्ञानिकों को मिलेगा नोबेल पुरस्कार


हार्वे जे ऑल्टर, माइकल ह्यूटन और चार्ल्स एम राइज को संयुक्त रूप से पुरस्कार देने की घोषणा


 


नई दिल्ली। फिजियोलॉजी और मेडिसिन का 2020 का नोबल प्राइज़ संयुक्त रूप से हार्वे जे ऑल्टर, माइकल ह्यूटन और चार्ल्स एम राइज को देने की घोषणा की गई है। ये पुरस्कार इनके हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज करने के योगदान के चलते दिया जा रहा है। इन तीनों ही वैज्ञानिकों की मौलिक खोजों के जरिए एक नोवल वायरस, हेपेटाइटिस सी की पहचान हुई। पुरस्कार देने वाली संस्था का कहना है कि इस वर्ष का नोबेल पुरस्कार उन तीन वैज्ञानिकों को प्रदान किया जाता है, जिन्होंने रक्त-जनित हेपेटाइटिस के खिलाफ लड़ाई में निर्णायक योगदान दिया है, जो एक प्रमुख वैश्विक स्वास्थ्य समस्या है और सिरोसिस और यकृत कैंसर का कारण बनती है।
 


अपने काम से पहले, हेपेटाइटिस ए और बी वायरस की महत्वपूर्ण खोज आगे बढ़ गई थी, लेकिन अधिकांश रक्त-जनित हेपेटाइटिस के मामले अस्पष्टीकृत रहे। हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज ने क्रॉनिक हेपेटाइटिस के शेष मामलों के कारण का पता लगाया और रक्त परीक्षण और नई दवाओं को संभव बनाया, जिसने लाखों लोगों की जान बचाई है। लीवर की सूजन, या हेपेटाइटिस, यकृत और सूजन के लिए ग्रीक शब्दों का एक संयोजन मुख्य रूप से वायरल संक्रमण के कारण होता है, हालांकि शराब का दुरुपयोग, पर्यावरण विषाक्त पदार्थों और ऑटोइम्यून रोग भी इसके महत्वपूर्ण कारण हैं। हार्वे जे अल्टर द्वारा ट्रांसफ्यूजन-संबंधी हेपेटाइटिस की पद्धतिगत अध्ययनों से पता चला कि एक अज्ञात वायरस क्रॉनिक हेपेटाइटिस का एक सामान्य कारण था। माइकल ह्यूटन ने हेपेटाइटिस सी वायरस नाम के नए वायरस के जीनोम को अलग करने के लिए एक अप्रयुक्त रणनीति का इस्तेमाल किया। चार्ल्स एम. राइस ने अंतिम साक्ष्य प्रदान किए कि हेपेटाइटिस सी वायरस अकेले हेपेटाइटिस का कारण बन सकता है। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने इन तीनों ही वैज्ञानिकों को बधाई दी है और कहा है कि इस पुरस्कार के लिए वह पूरी तरह से योग्य हैं। जितेंद्र सिंह ने लिखा कि हार्वे जे ऑल्टर, माइकल ह्यूटन और चार्ल्स एम राइज द्वारा की गई खोज चिकित्सा के हाल के इतिहास में सबसे बड़ी सफलताओं में से एक है।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल