क्या शोएब अपने अंदर के रावण को जगा पाएगा? जानने के लिए देखिये अपना फेवरेट शो बालवीर रिटर्न्‍स



डाॅ. दिलीप सिंह

इंदौर। सोनी सब के बालवीर रिटन्र्स ने दर्शकों को स्क्रीन से बांधकर रखा है। यह शो नवरात्रि उत्सव के साथ अपने दर्शकों के लिये त्योहारों की शुरूआत करने को तैयार है। भारत के लोग त्योहार के जोश में मगन हैं, वे नवरात्रि मनाने के लिये देवी दुर्गा की पूजा और गरबा कर रहे हैं। हालांकि, यह नौ दिन बालवीर (देव जोशी) और विवान (वंश सयानी) के लिये चुनौतियों से भरे हैं। इन नौ दिनों के दौरान रे (शोएब अली) सबसे ताकतवर बनने का संकल्प लेता है और पूरी दुनिया में बुराई फैलाता है। इधर बालवीर अपनी ताकत बढ़ाकर और दुनिया को बुराई से बचाकर रे को रोकने के लिये प्रतिबद्ध है।  

रे को नवरात्रि के 10वें दिन बुराई की सबसे बड़ी ताकत बनने के लिये 9 बच्चों की आत्माएं चाहिये। भारत नगर के लोगों का ध्यान भटकाने के लिये रे हर मुमकिन कोशिश करता है और उसे 2 आत्माएं मिल भी जाती हैं। वह बहुत ज्य दा शक्तिशाली बनने से बस कुछ ही कदम दूर है।

क्या बालवीर और विवान पूरी दुनिया को बुराई का अड्डा बनाने से रे को रोक पाएंगे? रे की भूमिका निभा रहे शोएब अली ने कहा, ‘रे का लक्ष्य नवरात्रि के अंत तक अत्यंत शक्तिशाली बनना है। अपनी बुरी चाहतों के साथ आगे बढ़ते हुए रे को लगता है कि वह अपने लक्ष्य के पास आ गया है, जिसके लिये वह हर किसी की जिन्दगी को जोखिम में डाल देता है। वह दृढ-संकल्पित है और उसे कोई नहीं रोक सकता, लेकिन अब उसके साथ क्या होगा, यह देखकर दर्शक रोमांचित हो उठेंगे। 

बालवीर की भूमिका निभा रहे देव जोशी ने कहा कि नवरात्रि का समापन दशहरे के साथ होता है, जब बुराई खत्म हुई थी। हालांकि, यह देखना दर्शकों के लिये दिलचस्प होगा कि भारत नगर में क्या होता है। बालवीर और विवान दुनिया में अच्छाई फैलाने और रे को रोकने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन यह उनके लिये इतना आसान नहीं होगा। उनके प्रियजनों की जिन्दगी खतरे में है।


Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

चकिया में देवर ने भाभी के लाखों के गहने और नगदी उड़ाये, आईपीएल में सट्टे व गलत आदतों में किया खर्च, एएसपी ने किया खुलासा

कुशवाहा कांतःअनुभूतियों में हमेशा जिंदा रहेंगे कालजयी साहित्य के अमर शिल्पी