अनुप्रिया पटेल ने अचानक फोड़ा लेटर बम, प्रशासन ने आरोपों को किया खारिज, भाजपा से रिश्ते में आने लगी खटास!



संजय दुबे

मीरजापुर। अपना दल (एस) और भाजपा के रिश्तों में अब खटास आने लगी है। अपना दल (एस) की मुखिया अनुप्रिया पटेल ने रविवार को अचानक कलेक्टर को निशाना बनाकर एक ऐसा लेटर बम फोड़ दिया, जिसका उनका कोई लेना-देना ही नहीं है। अनुप्रिया ने डीएम पर जो आरोप चस्पा किए हैं उसका निराकरण केंद्र और राज्य सरकार को करना है। 

निशाना भले ही डीएम पर दागा गया है, लेकिन उसके जरिए यह संदेश देने की कोशिश की गई है कि भाजपा और अपना दल (एस) के बीच सब कुछ अच्छा नहीं चल रहा है। आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपना दल (एस) अब योगी सरकार को घेरने के मूड में है।

आइए देखिए अपना दल (एस) की सुप्रीमो अनुप्रिया में कलेक्टर पर क्या आरोप लगाया है? इनका आरोप है कि जिगना वाया मिश्रपुर सड़क के नामकरण और राष्ट्रीय राजमार्ग के सात किसानों के मुआवजे को लेकर प्रशासन ठोस कदम नहीं उठा रहा है। 



प्रशासन जानबूझकर इस मामले में अड़ंगा लगा रहा है। इसके जवाब में कलेक्टर सुशील कुमार पटेल ने अनुप्रिया के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। श्री पटेल ने कहा है कि राष्ट्रीय राजमार्ग-सात के मुआवजे की सूची लंबी है। सूची कंपाइल की जा रही है और धन के लिए जल्द ही शासन को भेजा जाएगा। प्रक्रिया तेज कर दी गई है।







सैनिक स्कूल के लिए भूमि का निरीक्षण करके शासन को भेजा जा चुका है। केंद्रीय विद्यालय के लिए देवरीकला में जमीन आवंटित की गई है। कोई कार्य लंबित नहीं है। इंडियन ऑयल टर्मिनल में भी तीन दिन पहले नक्शा दुरुस्तीकरण के निर्देश शासन से मिले हैं, जिसके लिए डीएफओ को निर्देशित किया गया है। शहीद रवि सिंह के गांव की सड़क के नामकरण का भी प्रस्ताव भेज दिया गया है। शहीद को प्रशासन ने सम्मान दिया है। कोई भी काम प्रशासनिक स्तर पर लंबित नहीं है।

श्री पटेल ने कहा है कि वो हर जनप्रतिनिधि का सम्मान करते हैं। जनता की मूलभूत समस्याओं के निराकरण के लिए वो हर स्तर पर तैयार हैं। विकास कार्यों के निस्तारण लिए कभी भी कोई जनप्रितिनिध मिल सकता है। विकास के जो मुद्दे राज्य और केंद्र से जुड़े हैं उसके निराकरण के लिेए प्रशासन सरकार के समक्ष पक्ष रखता रहता है। पिछले कई महीनों से विकास कार्यों के साथ कोविड से घिरे लोगों की जान बचाने और गरीबों के लिए खाद्यान्न की व्यवस्था करने की मुहिम चलाई जा रही है। मीरजापुर के लोगों की प्राणरक्षा आज भी प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है।




Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल