सरकारी निर्देशों के प्रचार-प्रसार में जनसंपर्क अधिकारियों की भूमिका सराहनीय-डॉ अजीत पाठक

पब्लिक रिलेशन सोसाइटी ऑफ इंडिया वाराणसी चैप्टर की अनूठी पहल

कोरोना काल में जनसंपर्क अधिकारियों की भूमिका, चुनौतियां एवं संभावनाएं विषयक ऑनलाइन सम्मेलन सम्पन्न



जनसंदेश न्यूज़

वाराणसी। पर पब्लिक रिलेशन सोसाइटी ऑफ इंडिया वाराणसी चैप्टर द्वारा सोमवार को कोरोना काल में जनसंपर्क अधिकारियों की भूमिका, चुनौतियां एवं संभावनाएं विषय द्वारा अखिल भारतीय आन लाईन सम्मेलन का आयोजन गूगल मीट के प्लेटफार्म पर किया गया। बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित पब्लिक रिलेशन सोसाइटी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अजीत पाठक ने इस विशेष पहल की सराहना की तथा जनसंपर्क अधिकारियों के द्वारा केंद्र एवं राज्य सरकारों द्वारा जारी निर्देशों की अनुपालन तथा आम जनता के बीच प्रचार-प्रसार में की गई भूमिकाओं की सराहना की। 

इसके पूर्व वाराणसी चैप्टर के अध्यक्ष डॉ. राजकुमार सिंह ने सभी अतिथियों का स्वागत अपने स्वागत संबोधन के जरिए किया। डॉ. राजकुमार सिंह ने कोरोना संबंधी समस्या से निपटने हेतु जारी अभियान में जनसंचार के द्वारा जनसाधारण को शामिल करने की भूमिका की सराहना की। 

बतौर मुख्य वक्ता पब्लिक रिलेशन सोसायटी आफ इंडिया के भूत पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष (मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी, पूर्व रेलवे, कलकत्ता) समीर गोस्वामी जी ने पावर ऑफ कम्युनिकेशन तथा उसके सफल प्रभाव पर चर्चा की।



तत्पश्चात पी आर एस आई के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उत्तरी जोन नरेंद्र मेहता ने अपने विचार प्रस्तुत प्रस्तुत करते हुए आभासी मीडिया तथा भारत के लोगों द्वारा निभाए गए सामूहिक जीवन शैली की चर्चा की। उन्होंने कहा कि सरकारी निर्देशों का पालन तो किया गया, फिर भी जनसंख्या के अनुपात में जितना होना चाहिए था उतना नहीं हुआ।

कोयला एवं खान मंत्रालय के जनसंपर्क अधिकारी सिराज सिंह ने कोरोना काल में जनसंपर्क की चुनौतियों पर चर्चा करने के साथ-साथ बतलाया कि भारत सरकार द्वारा कोयला खदान आवंटन निजी क्षेत्र के लिए लॉकडाउन पीरियड में ही पूरी तरह खोल दिया गया है।

एनटीपीसी रिहंद के अपर महाप्रबंधक (मानव संसाधन) के एस मूर्ति ने एनटीपीसी में अपनाए गए प्रॉपर स्ट्रेटजी, पब्लिक इनफॉरमेशन, मानिटरिंग, प्लांट तथा टाउनशिप को शामिल करते हुए सभी कर्मचारियों और विशेषकर कांट्रैक्ट लेबर के सैलरी, उनके इश्यूज, वेलफेयर तथा डिजिटल डाटा इंप्लीमेंटेशन की बात की जो काफी सराहनीय है। एनटीपीसी ने विद्युत उत्पादन के साथ-साथ समाज का भी ख्याल रखा।

इंडियन आयल, नई दिल्ली की मुख्य प्रबंधक (कारपोरेट संचार) सुमीता सिंह ने पी आर एस आई तथा जनसंपर्क के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने इंडियन आयल के सप्लाई चेन, विशेषकर एलपीजी वितरण के लिए किए गए विशेष प्रयासों एवं उससे जुड़े हुए लोगों के हौसले की बात की।

वेस्टर्न कोलफील्ड्स नागपुर के सलाहकार एस पी सिंह ने व्यक्तिगत रिलेशन की चर्चा करते हुए अपने कंपनी द्वारा किए गए प्रयासों को बतलाया तथा उन्होंने यह भी बताया कि मास्क की कमी को पूरा करने के लिए हमारे परिवार की महिलाओं एवं महिला क्लब द्वारा मास्क का निर्माण भी किया गया।

संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी शचींद्र मिश्र ने विश्वविद्यालय स्तर पर किए गए प्रयासों तथा प्रशासन की मदद से विदेशी छात्रों को उनके अपने देश पहुंचाने के सफल रणनीति पर चर्चा की। पूर्वोत्तर रेलवे गोरखपुर के सीपीआरओ पंकज कुमार सिंह ने करुणा काल में रेलवे की भूमिका, स्पेशल श्रमिक ट्रेनें आदि पर प्रकाश डाला।

सम्मेलन की समीक्षा करते हुए पत्रकारिता एवं जनसंचार, बीएचयू के प्रोफेसर डॉ अनुराग दवे ने सभी वक्ताओं का निष्कर्ष प्रस्तुत करते हुए बताया कि कोरोना काल में सोशल मीडिया का भरपूर इस्तेमाल हुआ है और भविष्य में भी सोशल मीडिया के बिना जनसंपर्क का कार्य संभव नहीं हो सकता। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना काल के कारण हमारी जीवनशैली बदली है और सरकार, संस्थाओं तथा जनसाधारण के बीच जनसंपर्क अधिकारियों ने एक पुल की भांति अपनी भूमिका का निर्वहन किया है जिसका हमें और हमारे देश को समुचित लाभ मिल रहा है। 

उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि पब्लिक रिलेशन सोसाइटी निजी क्षेत्र के भी जनसम्पर्क अधिकारियों को ऐसे कार्यक्रमो में शामिल कर उनके विचारों एवं सुझावों को भी शामिल किया जाना चाहिए, इसी दौरान उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि सभी कम्पनियांे से केस स्टडी मंगाकर एक पुस्तिका का प्रकाशन कराके लोगों के बीच प्रस्थित करें, ताकि हर वर्ग के लोग लाभान्वित हो सके, ये पुस्तक छात्र छात्राओं का ज्ञान वर्धन भी करेगा। 

धन्यवाद ज्ञापन चैप्टर के महासचिव एवं नेशनल काउंसिल के सदस्य प्रदीप कुमार उपाध्याय ने किया। कार्यक्रम का संचालन एनटीपीसी उत्तरी क्षेत्र मुख्यालय के सहायक प्रबंधक (मानव संसाधन) मिथिलेश कुमार श्रीवास्तव ने किया। इस कार्यक्रम में पब्लिक रिलेशन सोसाइटी आफ इंडिया आफ इंडिया के राष्ट्रीय महासचिव निवेदिता बनर्जी, डी एल डब्लू  के पूर्व जनसम्पर्क अधिकारी प्रदीप मिश्रा, जयपुरिया कालेज के निदेशक अनिल जाजोदिया, एन टी पी सी सिगरौली के जनसंपर्क अधिकारी आदेश पाडेय, पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के पूर्व जनसम्पर्क अधिकारी राकेश सिन्हा, रणवीर चन्द्र वर्मा, डॉ. सत्येंद्र कुमार यादव, राजीव सिंह, शगुन पाल, रश्मि श्रीवास्तव, रवि शंकर शर्मा, सुभोजित सेन, मृदुला मिश्रा, आयुष मिश्रा, सहित देश भर में फैले पी आर एस आई के सभी चैप्टरों से जुड़े पब्लिक सेक्टर के अधिकारी एवं रेलवे, डीएलडब्लू, बीएचयू के लोग बतौर श्रोता जुड़े रहे। 



Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल