कांग्रेस कार्यालय पर मारपीट के मामले में आयी तेजी, जांच कमेटी गठित, दो निष्कासित


विशाल मिश्रा


आरोपी महिला के तहरीर पर चार व अन्य अज्ञात के विरूद्ध कोतवाली में मुकदमा दर्ज

देवरिया-शनिवार को कांग्रेस पार्टी कार्यालय  पर कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव सचिन नाईक के सामने हुई मारपीट का मामला अब तूल पकड़ने लगा है। महिला कार्यकर्ता की पिटाई का संज्ञान जहां महिला आयोग ने लिया है वही कांग्रेस पार्टी भी मामले के जांच के लिए तीन सदस्यीय टीम  गठित कर दी है। कांग्रेस मे टिकट मिलने के बाद आये भूचाल ने पूरे दल को खलबली में ला दिया है। शीर्ष नेतृत्व द्वारा बनायी गयी टीम तीन में अपनी जांच रिपोर्ट प्रदेश नेतृत्व को सौपेगी।
       बताते चले कि कांग्रेस नेता मुकुन्द भाष्कर मणि के कांग्रेस प्रत्याशी बनाये जाने के बाद उनके प्रथम जनपद आगमन पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय पर स्वागत समारोह का आयोजन किया था। उनका स्वागत भी कांग्रेसियों द्वारा बड़े ही गर्मजोशी के साथ किया जा रहा था। इसी बीच समारोह में एक महिला कार्यकर्ता ने गुलदस्ता राष्ट्रीय सचिव के उपर दे मारा जिसके बाद वहां पर मौजूद कार्यकर्ता उग्र हो गये और महिला नेत्री के साथ मारपीट करने लगे। महिला नेत्री मुकुन्द भाष्कर को टिकट मिलने से नाराज थी।
      महिला के इस तरह के तेवर देखकर श्री मणि के समर्थको का बुरा लगा जिसका विरोध उनके समर्थको ने किया। उनके समर्थकों के विरोध के बाद महिला और उसके समर्थक भी काफी उग्र हो गये और मामला बढ़ते -बढ़ते मारपीट तक पहुंच गया और यह खबर जंगल में आग की तरह फैल गयी की कांग्रेसी स्वागत समारोह में आपस में भिड़ गये। मामला शीर्ष नेतृत्व  के पास पहुंचते ही  हड़कम्प मच गया। आनन फानन में दीनानाथ यादव व अजय कुमार सैथवार को निष्कासित कर दिया गया और जांच टीम गठित करते हुए तीन के अन्दर रिपोर्ट देने की बात कहा गया है।
      वही इस मामले में कांग्रेस नेत्री ने पुलिस को तहरीर देकर कार्यवाही की मांग की है। अपर पुलिस अधीक्षक शिष्यपाल सिंह ने बताया कि चार और अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है, जांच कर आवश्यक कार्यवाही की जायेगी।



Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

चकिया में देवर ने भाभी के लाखों के गहने और नगदी उड़ाये, आईपीएल में सट्टे व गलत आदतों में किया खर्च, एएसपी ने किया खुलासा

कुशवाहा कांतःअनुभूतियों में हमेशा जिंदा रहेंगे कालजयी साहित्य के अमर शिल्पी