बिजनौर में पंचायत भवनों एवं सामुदायिक शौचालयों का ऑनलाइन लोकार्पण




  सतेंद्र सिंह 

 बिजनौर  पंचायत भवन एवं सामुदायिक शौचालयों का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  शिलान्यास करते हुए गांधी जी के ग्राम स्वराज के सपने को साकार करने का करने का प्राप्त हुआ गौरव, पंचायत भवन गांवों में मिनी सचिवालय के रूप में होगा संचालित, आप्टिकल फाईबर की सुविधा से गांव में ही उपलब्ध होंगी बैंक सहित अन्य आवश्यक सुविधाएं मौजूद रहेंगी  योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ग्रामीण अंचलों में पंचायत भवनों एवं सामुदायिक शौचालयों का लोकार्पण एवं शिलान्यास करते हुए गांधी जी के ग्राम स्वराज के सपने को साकार करने का करने का गौरव प्राप्त हो रहा है। उन्होंने कहा गांधी जी का सपना था कि ग्रामों में अपना राज हो और गांव के वासीगण अपने गांव में शहरों की तरह हर प्रकार की सुविधा प्राप्त करें। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों में निर्मित होने वाले पंचायत भवनों को मिनी सचिवालय के रूप से विकसित किया जाएगा और उसे आॅपटिकल फाईबर से सम्बद्व करते हुए गांव में ही बैंक, आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, खसरा-खतौनी की उपलब्धता सहित अन्य महत्वपूर्ण सेवाएं उपलब्ध कराईं जाएंगी ताकि ग्रामवासियों को अपने अहम कामों को छोड़ कर छोटे-छोटे कामों के लिए शहर न जाना पड़े।
 मुख्यमंत्री  आज  अपने निर्धारित कार्यक्रमानुसार वर्चुअली रूप से पंयायती राज विभाग के तत्वाधान में राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान/वित्त आयोग, स्वच्छ भारत मिशन (ग्रा0) तथा मनरेगा कन्वर्जेंस के अंतर्गत पंचायत भवनों एवं सामुदायिक शौचालयों का लोकार्पण/शौचालयों का शिलान्यास के उपरांत संबोधन में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण कार्यक्रम के अंतर्गत 2 करोड़ 61 लाख से अधिक शौचालयों का निर्माण कराया जा चुका है, जो एक कीर्तिमान है और वर्तमान में भी शौचालयों का निर्माण प्रगति पर है। उन्होंने बताया कि आज 59 हज़ार ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालयों के निर्माण से न केवल ग्रामवासियों को राहत प्राप्त होगी, वहीं दूसरी ओर सामुदायिक शौचालयों की साफ-सफाई एंव रखरखाव के लिए प्रति शौचालय एक महिला को रोजगार भी प्राप्त होगा, जिससे महिला शक्ति मिशन कार्यक्रम को भी बल प्राप्त होगा और महिलाओं का सशक्तिकरण और उनको स्वालाम्बी बनाने में भी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि आगामी 100 दिनों के अन्दर प्रदेश के सभी स्कूलों एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों में स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता के लिए कार्य योजना तैयार कर ली गई है और निर्धारित समय में ही इस योजना को व्यवहारिक रूप प्रदान कर स्वचछ पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी। उन्होंने बताया कि इसके अलावा डार्क जोन में भी स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता के लिए भी कार्य योजना बनाई जा रही है, ताकि ऐसे क्षेत्रों के लोगों को भी स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराया जा सके जहां जलस्तर का संकट है। अपने सम्बोधन में उन्होंने यह भी बताया कि केन्द्र सरकार से आग्रह करने पर प्रदेश में अतिरिक्त प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए अनुदान स्वीकार कर लिया गया है, जिसके परिणाम स्वरूप बेघर लोगों को आवास उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने इस अवसर पर जिलाधिकारियों को निर्देशित किया गया कि पंचायत भवनों, सामुदायिक शौचालयों सहित अन्य विकास योजनाओं के अंतर्गत जनहित में निर्मित योजनाओं एवं परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण स्थानीय जन प्रतिनिधियों द्वारा कराया जाना सुनिश्चित करें।