आपरेशन के दौरान महिला के पेट में छोड़ दिया ब्लेड, दो दिन बाद हो गई मौत



डॉ सुधाकर पांडेय

प्रयागराज। डॉक्टर को समाज में भगवान का रूप दिया गया है, पर डॉक्टर अपनी गलतियों से बाज नहीं आ रहे हैं। डॉक्टर की लापरवाही की वजह से एक प्रसूता महिला की जान चली गई। ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर ने प्रसूता महिला के पेट में ब्लेड छोड़ दी थी। जिसकी वजह से प्रसूता महिला की बुधवार को मौत हो गई।

मामला प्रयागराज शहर के धूमनगंज थाना क्षेत्र में मुंडेरा स्थित एक निजी अस्पताल का है। जहां के चिकित्सक की लापरवाही की बात सामने आई है। डॉक्टर पर आरोप है, कि प्रसूता के आपरेशन के दौरान पेट के अंदर ब्लेड छोड़ दिया था। कुछ दिन बाद महिला की हालत बिगड़ी तो परिजन उसे प्रयागराज के एसआरएन अस्पताल ले गए। जहां पर चिकित्सकों ने महिला के पेट से ब्लेड तो निकाल लिया, लेकिन उसकी हालत नहीं सुधरी बुधवार को उसकी मौत हो गई। 

कौशांबी जनपद में पिपरी थाना इलाके के फतेहपुर-सहावपुर गांव निवासी लवकुश खेती-किसानी करता है। उसकी 25 वर्षीय पत्नी सविता गर्भवती थी। उसका प्रयागराज के मुंडेरा स्थित एक निजी अस्पताल में 10 दिन पहले प्रसव के लिए आपरेशन कराया गया था। सविता ने एक पुत्री को जन्म दिया। सविता के परिवार वालों का आरोप है कि आपरेशन के दौरान डॉक्टर ने उसके पेट के अंदर ही ब्लेड छोड़ दिया। कुछ दिन बाद महिला की तबीयत खराब हो गई।  

परिवार के लोग उसे एसआरएन अस्पताल ले गए। परिजनों का कहना है कि डॉक्टरों ने पेट से ब्लेड निकाला, लेकिन उसके हालत में सुधार नहीं हुआ। बुधवार की सुबह उसकी मौत हो गई। परिजनों ने इसकी शिकायत थाने में अभी तक नहीं की है। अस्पताल में पोस्टमार्टम कराने के बाद शव लेकर लौटे परिजनों ने अंतिम संस्कार कर दिया है। हालांकि मामले को लेकर अभी पुलिस से शिकायत नहीं की गई है। बिन मां के नवजात शिशु की देखरेख कौन करेगा, ये सोच कर परिवार के लोगों का रो-रो कर हाल बेहाल है।



Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल