महिला से अवैध संबंध और मंदिर पर वर्चस्व की जंग ने करा दी पुजारी की हत्या, तीन हत्यारोपी गिरफ्तार



संजय दुबे

मीरजापुर। चील्ह थाना क्षेत्र के धौरहरा गांव में हुए मंदिर के सेवकिया की हत्याकांड का खुलासा पुलिस ने कर दिया। पुलिस ने हत्या का खुलासा करते हुए गांव के ही 3 आरोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया। 

चील्ह थाना क्षेत्र के धौरहरा गांव में 18 अक्टूबर की रात में गांव से सौ मीटर की दूरी पर स्थित शिव मंदिर के सेवकिया मुन्ना सरोज पुत्र राम सजीवन सरोज उम्र 35 वर्ष की देर रात सोते समय धारदार हथियार से गला काटकर हत्या कर दिया गया था। इस सनसनीखेज हत्या के बाद क्षेत्र में सनसनी फैली गयी।

पुलिस ने खुलासा करते हुए तीन आरोपी संतोष कुमार सिंह पुत्र परवंता उर्फ बिट्टू सिंह, पाली उर्फ अखिलेश पुत्र धनराज उर्फ चुनई व जर्सी उर्फ शत्रुघ्न पुत्र अशोक उर्फ सोहन निवासीगण धौरहरा को हनुमान नगर चेतगंज से गिरफ्तार करके जेल भेज दिया। आरोपियों की निशानदेही पर मंदिर के पीछे से आला कत्ल बड़ा चाकू बरामद कर लिया। 

घटना का खुलासा करते हुए एसपी सिटी संजय वर्मा ने बताया कि मंदिर की सेवाकिया हत्याकांड में शामिल 3 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि मंदिर की जमीन जो उनके पूर्वजों ने मंदिर के लिए दिया था। ऐसे में मुन्ना सरोज के द्वारा शिव मंदिर पर अपना आधिपत्य स्थापित कर लिया गया था। यही नहीं एक महिला से अवैध संबंध भी हत्या की प्रमुख वजह बनी। हत्या में शामिल तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है गिरफ्तार करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक छोटक यादव, चेतगंज चौकी प्रभारी अशोक कुमार सिंह मय हमराह रहे।

अवैध संबंध बना मौत का कारण

चील्ह थाना क्षेत्र के धौरहरा में पुजारी हत्याकांड में सेवकिया का महिला के साथ अवैध संबंध भी मौत की वजह बना। मृतक पुजारी कुंवारा था, जहां उसका एक महिला के साथ अवैध संबंध था। मृतक जो भी पैसा पाता था, उस महिला को देता था। इस बात को लेकर तीनों ने पुजारी को कई बार मना किया था, लेकिन पुजारी नहीं माना। जिसके बाद 18 अक्टूबर की रात्रि में तीनों मंदिर पर आए, जहां पर पुजारी को साथ लेकर कुछ ही दूरी पर गए, वहीं सूअर मारने के नाम पर बड़ी चाकु लेकर मंदिर पर आए, जहां देर रात पुजारी की हत्या कर दिया गया।

साथ में खाना खाया फिर उतारा मौत के घाट

पुजारी हत्याकांड में शामिल तीनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 18 अक्टूबर की रात्रि में तीनों आरोपी हत्या की योजना बनाकर मंदिर पर आए, जहां उन्होंने पहले पुजारी के साथ चाकू लाया। चाकू लाने के बाद तीनों हत्यारोपी साथ में खाना भी खाये। इसी बीच मंदिर की बिजली खराब हो गई, पुजारी बिजली भी ठीक कराया। हत्यारोपी गांजा व दारू का सेवन करते थे, जहां 18 अक्टूबर की रात्रि पुजारी को गांजा पिला दिया, जिसके बाद पुजारी बेसुध हो गया। 

इसी अवस्था का फायदा उठाकर तीनों ने रात्रि के 1.00 से 1.30 के बीच उसे मंदिर के गेट पर ले जा कर हत्या कर दिया। हत्या के बाद तीनों वहां से फरार हो गए। हत्या के पीछे मंदिर की जमीन भी वजह बन रही है, क्योंकि हत्यारोपी के पूर्वजों के यह जमीन मंदिर को दिया था जहां पर मुन्ना अपना आधिपत्य जमा रहा था। मंदिर पर रुकना हो या चढावा हो सब मुन्ना ही रखा था।




Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल