एसडीएम की जांच में खुलासा, जीएस की भूमि पर कब्जे को लेकर लेखपाल-सचिव पर गिरी गाज

बाग की भूमि पर लेखपाल व सेक्रेटरी की शह पर ग्रामीणों ने कर लिया अवैध कब्जा



शशिकांत चौबे

सोनभद्र। सदर ब्लाक के मुठेर गांव में ग्राम समाज की भूमि पर अवैध कब्जा कराने के मामले में संबंधित लेखपाल व सेक्रेटरी के खिलाफ कार्रवाई होनी तय है। एडीएम की जांच में पर्दाफाश होने पर उप जिलाधिकारी व खंड विकास अधिकारी को दोनों आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई करने व ग्राम समाज की भूमि को खाली कराने का निर्देश दिया गया है।

बताया गया कि मुठेर गांव निवासी महेंद्र कुमार चौबे पुत्र देवधारी चौबे ने बीते दिवस विभिन्न अधिकारियों से यह शिकायत की थी कि गांव में ग्राम समाज के खाता संख्या 99 क्षेत्रफल लगभग 0.5530 हेक्टेयर भूमि पर एक गांव एक बाग योजना के तहत पौधारोपण कराया जाना था, लेकिन ग्राम पंचायत विकास अधिकारी अश्वनी कुमार श्रीवास्तव द्वारा पौधे उपलब्ध न कराए जाने से उक्त भूमि पर पौधारोपण का कार्य नहीं हो सका। 

यह भी बताया गया था कि क्षेत्रीय लेखपाल सुधीर कुमार पटेल व अश्वनी कुमार श्रीवास्तव की मिलीभगत से ग्रामीण लक्ष्मण, नंदलाल, रामदेश, लालजी, हीरा सहित अन्य द्वारा ग्राम सभा की उक्त भूमि पर पूर्व में रोपित पौधों को नष्ट कर जोत कोड़ करके अवैध कब्जा कर लिया गया है। हालांकि निचले स्तर के अधिकारियों ने झूठी रिपोर्ट लगाकर इस मामले को निस्तारित दिखा दिया था, लेकिन अतिक्रमण का यह मामला जब अपर जिलाधिकारी योगेंद्र बहादुर सिंह के पास पहुंचा तो मामले की जांच शुरू हो गई। 

एडीएम ने 28 अक्टूबर को लेखपाल सुधीर कुमार पटेल व ग्राम पंचायत विकास अधिकारी अश्वनी कुमार श्रीवास्तव को कार्यालय में तलब कर पूछताछ किया लेकिन वे संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। एडीएम ने उप जिलाधिकारी सदर को लेखपाल के खिलाफ कार्रवाई करते हुए अतिक्रमण हटाए जाने व खंड विकास अधिकारी राबर्ट्सगंज को सेक्रेटरी के खिलाफ कार्रवाई कर सात दिनों के भीतर दोनों अधिकारियों से आख्या तलब की गई है। इस बावत अपर जिलाधिकारी ने बताया कि जांच में लेखपाल व सेक्रेटरी की मिलीभगत से अतिक्रमण कराने की पुष्टि हुई है। विभागीय कार्रवाई के साथ ही दोनों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराई जाएगी।



Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल