सुंदरता को घटाता है मोटापा, लेकर आता है तरह-तरह की बीमारियां


 विश्व मोटापा दिवस पर बीएचयू की सीनियर रेजिडेंट डॉ. संध्या का विशेष लेख

व्यस्त जीवनशैली तनाव और खानपान को लेकर लापरवाही मोटापे का प्रमुख कारण बनता जा रहा है। आसान शब्दों में मोटापा शरीर से आवश्यकता से अधिक भार हैं, बेडौल शरीर न सिर्फ महिला की सुन्दरता को खत्म करता है बल्कि कई बीमारियों की जड़ हैं। इसी को देखते हुए विश्व मोटापा दिवस 11 अक्टूबर को लोगों को स्वस्थ वजन बनाए रखने के प्रति जागरूक रखने के लिए मनाया जाता हैं। जिसकी शुरुआत सन 2015 से हुई थी।

मोटापे में अप्रत्याशित वृद्धि से गर्भधारण में दिक्कतों के अतिरिक्त प्रसव भी जोखिममय होता है। महिलाओं में मोटापा प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है। दुनिया भर में मोटापा 1975 से लगभग तीन गुना हो गया है। 2016 में, 1.9 अरब से अधिक वयस्क, 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के, अधिक वजन वाले थे। इनमें से 650 मिलियन लोग मोटापे से ग्रसित थे।

डॉ. संध्‍या, बीएचयू


18 वर्ष और अधिक आयु के 39 प्रतिशत वयस्क 2016 में अधिक वजन वाले थे, और 13 प्रतिशत लोग मोटापे से ग्रसित थे। 5 साल से कम उम्र के 38 मिलियन बच्चे 2019 में अधिक वजन वाले या मोटापे से ग्रसित थे। 5-19 आयु वर्ग के 340 मिलियन से अधिक बच्चे और किशोर 2016 में अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त थे। 

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, कैंसर के चार निरोध्य कारणों में से मोटापा एक है। यह स्वास्थ्य से जुड़ा एक गंभीर विषय है। मोटापा है या नहीं यह  जानने के लिए अपनी लंबाई में से सौ सेमी घटा देने से जो बचे उतना किलो वजन सामान्य कहा जा सकता है। बी एम आइ एक वजन और लम्बाई का अनुपात है और भारतीयों के लिए यह 15.5 से 23 तक सामान्य माना गया है। 

इसके प्रमुख कारणों में जैसे कि उचित पोषक आहार न लेने के कारण, अधिक तैलिय पदार्थ या फास्ट फूड्स केे सेवन केे कारण, व्यायाम की कमी, तनाव एवं कई मामलों में अनुवांशिकता भी कारण हैं। मोटापा बढने से मधुमेह, अनिंद्रा, ब्लडप्रेशर, हार्ट अटैक, थायरॉइड समस्या, ब्रेन स्टोन, कैंसर, अनिद्रा, जोडों और घुटनों की बीमारियां शुरू हो जाती हैं।

मोटापा कम करने के लिए हमें अपने रोज के आहार विहार को ध्यान में रखना चाहिए। भोजन समय समय पर संतुलित तथा उचित मात्रा में लेना चाहिए।

डॉ संध्या
सीनियर रेजिडेंट
प्रसूति एवं स्त्री रोग विभाग चिकित्सा विज्ञान संस्थान 
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय



Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

चकिया में देवर ने भाभी के लाखों के गहने और नगदी उड़ाये, आईपीएल में सट्टे व गलत आदतों में किया खर्च, एएसपी ने किया खुलासा

कुशवाहा कांतःअनुभूतियों में हमेशा जिंदा रहेंगे कालजयी साहित्य के अमर शिल्पी