मुंबई पुलिस का बड़ा खुलासा, रिपब्लिक टीवी सहित तीन चैनलों पर पैसे देकर टीआरपी खरीदने का आरोप, दो गिरफ्तार



जनसंदेश न्यूज़

नई दिल्ली। मुंबई पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए कुछ चैनलों पर पैसे देकर टीआरपी खरीदने का आरोप लगाया। गुरूवार को आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने टीआरपी में हेरफेर से जुड़े एक घोटाले की जांच के तीन ऐसे चैनलों की पहचान की है, जो पैसे देकर टीआरपी खरीदने का कार्य करते है।

मुंबई पुलिस ने बताया कि इन चैनलों में फक्त मराठी, बॉक्स सिनेमा और रिपब्लिक टीवी, जो कथित रूप से टेलीविजन चैनलों की रेटिंग करने के लिए बार्क द्वारा प्रयुक्त तंत्र को विकृत करने में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि मामले में दो लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

परमबीर सिंह ने कहा कि इस रैकेट का नाम ‘फॉल्स टीआरपी रैकेट’ है। ये रैकेट फॉल्स रैकेट के जरिए करोड़ों रुपये के राजस्व का मुनाफा कमा रहा था। इस मामले में पुलिस कमिश्नर ने सीधे तौर पर रिपब्लिक टीवी को आरोपी मानते हुए कहा कि ने पैसे देकर रेटिंग बढ़ाई। टीआरपी रैकेट के जरिए पैसा देकर टीआरपी के मैन्युपुलेट किया जाता था। सूचना प्रसारण मंत्रालय और भारत सरकार को रिपब्लिक टीवी की जानकारी दी जाएगी।

परमबीर सिंह ने बताया कि टीआरपी की निगरानी के लिए मुंबई में 2,000 बैरोमीटर लगाए गए हैं। बार्क ने इन बैरोमीटर की निगरानी के लिए ‘हंसा’ नामक एजेंसी से गोपनीय अनुबंध किया था जो टीआरपी के साथ छेड़छाड़ कर रही थी। जिन घरों में ये कॉन्फिडेंशियल पैरामीटर्स लगाए गए थे उस डेटा को किसी चैनल के साथ शेयर कर उनके साथ टीआरपी में छेड़छाड़ की गई।’


Popular posts from this blog

ब्लाक प्रमुख को सरेराह गोलियों से भूना, ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाके में सनसनी

1.5 करोड़ लेकर पत्नी ने किया पति का सौदा, किया प्रेमिका के हवाले

मेरी करनी का फल है लिखकर महिला दरोगा ने फंदे पर झूलकर दी जान