क्या मूल आवश्यकताओं का ना मिलना देगा नई क्रांति को चुनौती?



डॉ. दिलीप सिंह

इंदौर। बचपन से लेकर बड़े होने तक बाबा साहेब ने कई पीड़ाओं का सामना पूरी मजबूती के साथ किया। समानता की लड़ाई उनकी सबसे मुख्य लड़ाई रही है। एण्ड टीवी के शो ‘एक महानायक डॉ बी. आर. आम्बेडकर’ के आगामी एपिसोड में एक और बड़ी घटना घटने वाली है। रामजी सकपाल (जगन्नाथ निवांगुने) और उनके परिवार पर काफी अत्याचार किया जाएगा और उनके समुदाय को पीने के साफ पानी से वंचित रखा जाएगा, जो जीने के लिए अत्यधिक आवश्यक है। 

इस तरह के हालातों से कैसे बाबासाहेब (आयुध भानुशाली) और गांव वाले पानी की कमी से जूझेंगे और इस परेशानी का हल ढूंढेंगे? जगन्नाथ निवांगुने ने कहा, बाबासाहेब का असली संघर्ष तब शुरू होता है जब वह जातिवाद भेदभाव का शिकार हुए लोगों को एक साथ लाकर उनके जीवन के लिये जरूरी चीजों को दिलाने की लड़ाई में उनका नेतृत्व करते हैं। 

हर किसी को उसकी आम जरूरतों को पूरा करने का अधिकार है और अपने गांव के लोगो को साफ पानी से वंचित देखकर युवा भीमराव के मन में इसमें सुधार करने का बीज पनपने लगा। यह एक बहुत बुरी स्थिति है जो पूरे के पूरे समुदाय को मुसीबत में डाल देगी और उनके पास अपने जीवन के लिए लड़ाई करने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल