बिजली कर्मचारियों का हड़ताल, जनता बेहाल, फीडरों पर डीएम एसपी


देवरिया। बिजली वितरण करने वाले पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण के खिलाफ कर्मचारियों और अधिकारियों में जबरदस्त रोष है। सरकार के इस फैसले के खिलाफ जनपद के कर्मचारियों ने कार्य बहिष्कार कर दिया है। इनमें जूनियर इंजीनियर, अधिशासी अभियंता, अधीक्षण अभियंता तक के कर्मचारी और अफसर शामिल हैं। कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि अगर निजीकरण के फैसले को वापस नहीं लिया गया तो सभी कर्मचारी अनिश्चित कालीन हड़ताल पर रहेंगे। हड़ताल से विद्युत समस्या पैदा हो जाने पर आम जनता को तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है।
निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मचारी संघ द्वारा घोषित अनिश्चितकालीन हड़ताल मंगलवार को भी रहा। जिसके कारण शहर से लेकर तहसीलों,ब्लाकों की घरों की बत्ती गुल रही। हालांकि शहर में डीएम और एसपी के प्रयास से दोपहर बाद कुछ जगहों पर बिजली बहाल हुई।
सोमवार को बिजली व्यवस्था चरमराने से बच्चो से लेकर बड़ो तक को भीषण गर्मी में रात बिना पंखे,कूलर और लाइट के ही गुजारना पड़ा।
मंगलवार को भी पूर्वांचल विद्युत निगम की अनिश्चितकालीन हड़ताल संघ और ऊर्जा मंत्री के साथ सोमवार देर रात की वार्ता विफल होने से हड़ताली कमर्चारियों ने हड़ताल जारी रहा।
हड़ताली कर्मचारियों का कहना है कि शासन ने 2018 में विभाग का निजीकरण नही करने का आश्वासन दिया था लेकिन अब अपने ही बातो से मुकर गई है। सोमवार को ऊर्जा मंत्री के साथ वार्ता के बाद समझौता का प्रस्ताव तैयार हो गया था, पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष ने उस प्रस्ताव पर 2-3 दिन का समय मागंते हुए हस्ताक्षर करने से मना कर दिया। इसलिए प्रदेश नेतृत्व ने यह निर्णय किया है कि जबतक शासन स्तर पर लिखित समझौता नही होगा  हड़ताल जारी रहेगी।
सोमवार शहर में बिजली गुल होने से नाराज शहर वासियों ने देर रात सुभाष चौक, कपोरेटिव चौराहा पर सड़क जाम कर दिया। आनन फानन में सदर एसडीम, अपर पुलिस अधीक्षक, सीओ ने मौके पर पहुँच आश्वासन देकर जाम हटवाया।
वही जिलाधिकारी अमित किशोर सोमवार देर रात तक बिजली व्यवस्था शुचारु रूप से बहाल कराने को लेकर रामलीला फीडर पर पहुँच गए और बिजली बहाल कराने के लिए डटे रहे।  देर रात शहर के कुछ मोहल्लों में बिजली सप्लाई शुरू हुई तो कुछ मोहल्लों की बत्ती रात भर गुल रही। मंगलवार को जिलाधिकारी अमित किशोर, पुलिस अधीक्षक डॉ श्रीपति मिश्र जनपद में विधुत व्यवस्था बहाल करने के लिए शहर के फीडरों पर दौरा कर मोर्चा संभाला जिसके बाद दोपहर से पूरे शहर में विद्युत आपूर्ति बहाल हुई।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल