आखिर क्यों तबादले के बाद भी क्षेत्र छोड़कर नहीं जा रहे एबीएसए?

भदौरा में अतिरिक्त चार्ज और मनिहारी में मिली तैनाती

जनसंदेश न्यूज़
गाजीपुर। बेसिक शिक्षा अधिकारी के स्थानांतरण आदेश के बावजूद खंड शिक्षा अधिकारी सुदामा राम भदौरा क्षेत्र छोड़ने को तैयार नहीं है। यह अतिरिक्त चार्ज के रूप में भदौरा कार्य कर रहें है, वहीं मनिहारी में खंड शिक्षा अधिकारी के मूल पद पर तैनात है। इसकी लिखित शिकायत सेवराई निवासी किसान नेता भानु प्रताप सिंह ने गुरूवार को डीएम एमपी सिंह से किया। 


उन्होंने पत्र के माध्यम से डीएम को अवगत कराया कि भदौरा खंड शिक्षा अधिकारी के खिलाफ शिकायत के बाद तत्कालीन डीएम ओम प्रकाश आर्य ने जांच टीम गठित कर इनके कार्यो का जांच कराया। जिसमें यह अफसर दोषी पाए गए थे। इसके बाद डीएम के आदेश पर बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रवण कुमार गुप्ता ने विगत 16 जनवरी को तबादला कर दिया था। लेकिन इसके बावजूद खंड शिक्षा अधिकारी भदौरा क्षेत्र में कार्य कर रहें है। जबकि स्थायी रूप से मनिहारी ब्लाक के खंड शिक्षा अधिकारी और भदौरा ब्लाक में अतिरिक्त प्रभार इनके पास है। डीएम से किसान नेता ने मांग किया कि इस अधिकारी को भदौरा के प्रभार से हटाया जाए।  



जांच में खुलासा: बिना मानक के स्कूलों को दी मान्यता स्वीकृति 
गाजीपुर। किसान नेता भानु प्रताप सिंह ने सेवराई क्षेत्र में गैर मान्यता प्राप्त विद्यालय और बिना मानक के मान्यता प्राप्त विद्यालय के खिलाफ जांच करने को लेकर विभागीय अधिकारियों से शिकायत किया था। इसके अलावा खंड शिक्षा अधिकारी पर आरोप लगाया था कि इनके इशारे पर क्षेत्र में अवैध रूप से ऐसे विद्यालय संचालित होते है। 


विभाग से कोई कार्रवाई न होने पर एसडीएम सेवराई को 15 सितंबर 2019 को आत्म दाह के लिए दिए गए पत्रक दिया। जिसके बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी ने एक सप्ताह के अंदर विभागीय कार्रवाई का आश्वासन दिया। विभागीय जांच में खंड शिक्षा अधिकारी सुदामा राम के उपर बिना मानक के स्कूल की स्वीकृति देने की बात सामने आई। बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रवण कुमार गुप्ता ने तत्काल भदौरा क्षेत्र से हटाकर उनके स्थान पर सुनील कुमार सिंह की तैनाती का आदेश दिया। लेकिन सुदामा राम भदौरा क्षेत्र में आज भी कार्य कर रहे है।    


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल