रेल कर्मचारियों का बड़ा ऐलान, नहीं मानी गई मांगे तो 22 को जाम कर दिये जायेंगे ‘रेल के पहिये’ दी डेडलाइन

-यूआरएमयू, एनआरएमयू व एनई मजदूर यूनियन ने किया प्रदर्शन

- बोले, 78 दिन का बोनस कर्मचारियों का है अधिकार

- सरकार इसे खत्म करने की साजिश को रेलकर्मी सफल नहीं होने देंगे



अश्वनी कुमार श्रीवास्तव

वाराणसी। भारत सरकार द्वारा रेलवे कर्मचारियों के पीएलबी बोनस 2019-20 की घोषणा न किये जाने के विरोध में मंगलवार को रेल के सभी संगठनों ने जबरदस्त विरोध प्रदर्शन के अपनी नाराजगी जताई।

एनएफआईआर, यूआरएमयू के बैनर तले कर्मचारियों ने कैंट स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या एक पर स्थित स्टेशन निदेशक कार्यालय पर बारी-बारी से प्रदर्शन किया। यूआरएमयू केंद्रीय अध्यक्ष यूथविंग चंद्रशेखर यादव व सहायक मंडल मंत्री तारकनाथ के नेतृत्व व शाखा मंत्री विन्ध्यवासिनी यादव की अगुआई में सभी कर्मचारियों ने कहा कि सभी को एकजुट होकर अपने अधिकारों की लड़ाई लड़नी होगी। 

बोनस की घोषणा जल्द न होने पर केंद्रीय आवाहन पर आगे की रणनीति तय की जायेगी विरोध प्रदर्शन में गजेन्द्र सिंह, जितेन्द्र कुमार, अशोक कुमार, राजेश कुमार, प्रदीप पाण्डेय, लक्ष्मण यादव, एस के गुप्ता, रणजीत कुमार सहित सैकड़ों रेलकर्मी शामिल रहे।



वहीं रेलवे मेंस यूनियन वाराणसी शाखा के सदस्यों ने भी बोनस की मांग पर आवाज बुलंद करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। नार्दर्न रेलवे मेंस यूनियन के महामंत्री शिव गोपाल मिश्रा व स्टैंडिंग कमेटी के निर्णय के आह्वान पर लखनऊ मंडल के मंडल अध्यक्ष कामरेड राजेश सिंह के नेतृत्व में व मंडल मंत्री कामरेड आर.के.पांडेय के मार्गदर्शन में स्टेशन निदेशक कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया गया। 

सभी ने एक स्वर में कहा कि यदि भारत सरकार 21 अक्टूबर तक कल 78 दिन का बोनस मिलने का घोषणा नहीं करती है तो मजबूरन भारतीय रेल के कर्मचारियों द्वारा 22 अक्टूबर को रेल का चक्का जाम किया जायेगा। विरोध प्रदर्शन में मुख्य रूप से सहायक मंडल मंत्री कामरेड एस के सिंह, डी के सिंह, राजकुमार, एस सी गौतम, राजेश्वर शुक्ला, डी पी सिंह, रामदास, अखिलेश पांडेय, प्रेम चौधरी, तफजील अहमद, आर के पोद्दार, भूपनाथ, वाई के मिश्रा, चंद्रजीत यादव, ओमप्रकाश, रवि कुमार शर्मा, पवन उपाध्याय, बलवंत गुप्ता, औरंगजेब खान आदि थे। 



वहीं एन ई रेलवे मजदूर यूनियन वाराणसी मंडल के तत्वावधान में लहरतारा स्थित मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय  पर विरोध प्रदर्शन कर बोनस की मांग की। मंडल मंत्री कामरेड बीके सिंह मंडल अध्यक्ष कामरेड एनबी सिंह ने कहा कि उत्पादकता पर आधारित यह बोनस एआईआरएफ के संघर्षों का परिणाम है सरकार कि ओर से इसे खत्म करने की साजिश को सफल नहीं होने दिया जाएगा। बोनस की घोषणा शीघ्र नहीं की गई तो 22 अक्टूबर को रेल चक्काजाम किया जाएगा। इस दौरान राणा राकेश रंजन कुमार, रविकांत श्रीवास्तव, राजकुमार सिंह, मुन्नालाल, चंद्रशेखर सिंह, अजय कुमार, आदि उपस्थित रहे।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल