अप्रैल 2021 तक 16 राफेल आएंगे भारत



अंबाला। चीन के साथ सीमा पर तनाव के बीच भारत की ताकत में और भी इजाफा होने वाला है। पांच राफेल विमान के आने से भारतीय वायुसेना की ताकत पहले ही और बढ़ गई है, मगर उसमें जल्द ही चार चांद लगने वाले है, क्योंकि राफेल लड़ाकू विमानों की दूसरी खेप जल्द ही भारत आ ही है। इस मामले से परिचित वायुसेना के अधिकारियों की मानें तो 5 नवंबर को तीन राफेल लड़ाकू विमान हरियाणा के अंबाला एयरबेस पर पहुंच जाएंगे। इतना ही नहीं, भारतीय वायुसेना की स्ट्राइक क्षमता अप्रैल 2021 तक और भी अधिक बढ़ जाएगी, क्योंकि इंडिनय एयरफोर्स के गोल्डन एरो स्क्वाड्रन बेड़े में तब तक 16 राफेल विमान शामिल हो जाएंगे। फिलहाल, भारतीय वायुसेना के बेड़े में पांच राफेल  विमान शामिल हो चुके हैं। इसी साल 29 जुलाई को भारतीय वायु सेना के लिए तुरूप का इक्का माने जाने वाले पांच राफेल विमानों की पहली खेप फ्रांस से अबु धाबी होते हुए अंबाला एयरबेस आई थी। ये सभी लड़ाकू विमान इंडियन एयरफोर्स के 17वें स्क्वॉड्रन में शामिल हुए थे। वायु सेना ने 59 हजार करोड़ रुपये की लागत से फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीद का सौदा किया है। वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के अनुसार, तीन राफेल लड़ाकू विमानों का अगला जत्था पांच नवंबर को बोर्डो-मेरिग्नैक एयरबेस से सीधे अंबाला पहुंचेगा। इस दौरान कहीं भी इन विमानों का पड़ाव नहीं होगा, क्योंकि ये हवा से हवा में ही ईंधन भरने की ताकत रखते हैं। बता दें कि फ्रांस में भारतीय वायुसेना के लड़ाकू पायलट प्रशिक्षण के लिए पहले से ही सात राफेल लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल कर रहे हैं। राफेल लड़ाकू विमानों के दूसरे बेड़े को शामिल करने की तैयारियों के तहत भारतीय वायु सेना ने साजो-सामान संबंधी मुद्दों को देखने और वहां सेंट-डिजियर वायुसेना केंद्र पर चुनिंदा पायलटों के प्रशिक्षण की समीक्षा के लिए अधिकारियों के एक दल को फ्रांस भेजा है। 

Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल