चंदौली में पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू सहित सपा के 10 बड़े नेता व 500 अज्ञात कार्यकर्ताओं पर मुकदमा दर्ज

महामारी अधिनियम व आपदा प्रबंधन सहित कई धाराओं में दर्ज किया मुकदमा



जावेद अंसारी

चंदौली। किसान पदयात्रा निकालने वाले सपाइयों का आंदोलन जनपद पुलिस को रास नहीं आया। सदर कोतवाली पुलिस ने मनोज सिंह डब्लू समेत 10 बड़े सपा नेताओं पर महामारी अधिनियम, आपदा प्रबंधन अधिनियम समेत धारा-188, 269 व 270 के तहत मामला दर्ज किया। पुलिस एफआईआर में 500 अज्ञात सपाइयों का भी जिक्र है। सपाई इसे राजनीतिक द्वैष से की गई कार्यवाही करार दिया। उधर, कोतवाल अशोक मिश्रा ने कहा कि विभाग की ओर से एफआईआर दर्ज कराया गया है। उच्चाधिकारियों के आदेशानुसार जल्द ही आरोपी राजनेताओं की गिरफ्तारी की प्रक्रिया अमल में लायी जा सकती है।

विदित हो कि सरकार के कृषि विधेयक-2020 के खिलाफ समाजवादी पार्टी किसान पदयात्रा जनपद के सभी विधानसभा क्षेत्र से निकालकर बिछियां धरनास्थल पर सभा की गयी। इस दौरान सपाइयों को भीड़ संभालने में पुलिस वालों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। कड़े सुरक्षा बंदोबस्त के बाद भी युवा सपाई पुलिस घेरेबंदी को तोड़कर कलेक्ट्रेट परिसर में घुस गए। इस दौरान सपाइयों की पुलिस से हल्की झड़प व धक्का मुक्की भी हुई। उधर, धरनास्थल व दिग्गज सपाइयों ने बड़े ही शांति और सलीके के साथ आंदोलन को मुकाम दिया। हालांकि मंगलवार को सदर कोतवाली पुलिस ने सपा के राष्ट्रीय सचिव मनोज सिंह डब्लू, सपा जिलाध्यक्ष सत्यनारायण राजभर, राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज सिंह काका, महासचिव नफीस अहमद गुड्डू, सकलडीहा विधायक प्रभुनाराायण सिंह यादव, पूर्व सांसद रामकिशुन, संतोष यादव, पूर्व प्रमुख बाबूलाल यादव, पूर्व अध्यक्ष बलिराम यादव, पूर्व विधायक चकिया पूनम सोनकर समेत 500 अज्ञात सपाइयों के खिलाफ पुलिस ने महामारी अधिनियम, आपदा प्रबंधन अधिनियम के अलावा धारा-188, 269 व 270 के तहत मामला दर्ज किया। इस बाबत कोतवाल अशोक कुमार मिश्रा ने बताया कि विभाग के आदेश पर आंदोलन में शामिल सपा नेताओं व 500 अज्ञात सपाइयों पर मुकदमा दर्ज करने की कार्यवाही की गयी है। 

कुछ ऐसी रही सपा नेताओं की प्रतिक्रिया

समाजवादी पार्टी मुकदमों से नहीं डरती हैं। संघर्ष ही सपा की पहचान है और वर्तमान सपा किसानों के हित से जुड़ी अतिसंवेदनशील मुद्दे पर मुखर थी। किसानों का अहित सोचने वाली सरकार के इशारे पर सपाइयों की आवाज को दबाने के लिए मुकदमें किए गए हैं, लेकिन सपा किसी हाल में नहीं रुकेगी।

-सपा के राष्ट्रीय सचिव मनोज सिंह डब्लू।

पुलिस-प्रशासन के डर से सपा किसानों की आवाज उठाना बंद नहीं करेगी। फिर चाहे जेल जाना हो या फिर योतनाएं झेलनी हो। किसानों के लिए समाजवादी पार्टी का एक-एक सिपाही तैयार है। सपाइयों पर किया गया मुकदमा राजनीतिक द्वैष से प्रेरित है, जिसे तत्काल वापस लिया जाना चाहिए।

-सकलडीहा विधायक, प्रभुनारायण सिंह यादव।

सपा न्याय और जुल्म के खिलाफ अपना आंदोलन जारी रखेगी। किसानों, नौजवानों की आवाज को पुरजोर ढंग से उठाने का काम एक सशक्त विपक्ष के तौर पर समाजवादी पार्टी करती रहेगी। मुकदमों व पुलिसिया कार्यवाही से सपा न तो कभी डरी है और ना डरेगी। 

-सपा प्रवक्ता, मनोज सिंह काका।

पुलिस भाजपा के इशारे पर काम कर रही है। ऐसी गिदड़भभकी से समाजवादी पार्टी डरने वाली नहीं है। मुकदमा नहीं, जेल भेज दें। इसके बाद भी किसानों के नाम पर शुरू हुई जारी रहेगी। 

-सपा महासचिव, नफीस अहमद।



Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल