यूपी के इस जिले में भरी बैठक में डीएम ने सीएमओ को बोला ‘गधा’, तुम्हारी खाल खिंचवा लेंगे, वायरल पत्र से हंगामा


जनसंदेश न्यूज़
लखनऊ। यूपी के रायबरेली में स्वास्थ्य सेवाओं की बैठक में डीएम और सीएमओ के बीच नोंक-झोंक हो गई। डीएम द्वारा कहे गये अपशब्दों से नाराज सीएमओ ने शनिवार को चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के महानिदेशक को पत्र लिखकर शिकायत दर्ज कराई। पत्र वायरल होेने के बाद प्रकाश में आये मामले में जिले में हड़कंप मच गया। 


बीते शुक्रवार की शाम को डीएम वैभव श्रीवास्तव ने बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं और कोविड-19 की व्यवस्था को लेकर कैंप कार्यालय में जिले के अधिकारियों की बैठक बुलाई थी। मीटिंग में कोवडि-19 से जुड़े अधिकतर अधिकारी और चिकित्साधिकारी मौजूद थे। सीएमओ डा. संजय शर्मा द्वारा स्वास्थ्य महानिदेशक को लिखे गए पत्र में कहा गया है कि मीटिंग में कोविड-19 के अस्पतालों के भोजन व्यवस्था प्रभारी डॉ. मनोज शुक्ला की गैरमौजूदगी का मसला उठा। सीएमओ का कहना है कि डीएम को बताया गया कि डॉ. मनोज शुक्ला की पत्नी कैंसर रोग से ग्रस्त हैं। उनकी डायलिसिस होनी थी। फोन पर ही उन्हें पत्नी के इलाज के लिए जाने की इजाजत दे दी गई। 


स्वास्थ्य महानिदेशक को लिखी चिट्ठी के मुताबिक सीएमओ का कहना है कि डॉ. मनोज शुक्ला की गैरहाजिरी की सूचना पर डीएम नाराज हो गए और गाली गलौज पर उतर आए। उन्होने ‘गधा’ तक कह दिया। उनका आरोप है कि डीएम यहीं नहीं रुके। उन्होने भरी मीटिंग में खाल तक खिंचवाने धमकी भी दे दी। पत्र में उन्होने लिखा है कि डीएम की इस धमकी से उनकी तबीयत बिगड़ गई और वह मीटिंग बीच में ही छोड़कर चले आए। उनका यह भी आरोप है कि डीएम आए दिन चिकित्साधिकारियों से अपमान की भाषा बोलते हैं। 


Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

चकिया में देवर ने भाभी के लाखों के गहने और नगदी उड़ाये, आईपीएल में सट्टे व गलत आदतों में किया खर्च, एएसपी ने किया खुलासा

नलकूप के नाली पर पीडब्लूडी विभाग ने किया अतिक्रमण, सड़क निर्माण में धांधली की सूचना मिलते ही जांच करने पहुंचे सीडीओ, जमकर लगाई फटकार