वैश्विक स्मार्ट सिटी की टॉप 50 की लिस्ट में भारत का एक भी शहर नहीं


नई दिल्ली। भारत में मोदी सरकार भले ही शहरों को स्मार्ट बनाने में हजारों करोड़ रुपए खर्च कर रही हो किन्तु हकीकत यह है कि भाते का एक भी शहर वैश्विक स्मार्ट सिटी की सूची में शीर्ष 50 में भी स्थान नहीं बना पाया है। बल्कि इस सूची में नई दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद और बेंगलुरु के स्थान में उल्लेखनीय गिरावट आई है, जबकि सिंगापुर इस सूची में शीर्ष पर रहा है। इंस्टीट्यूट फॉर मैनेजमेंट डेवलपमेंट (आईएमडी) ने सिंगापुर यूनिवर्सिटी फॉर टेक्नालॉजी एंड डिजाइन (एसयूटीडी) के साथ मिलकर 2020 स्मार्ट सिटी सूचकांक जारी किया है।


इसमें कोविड-19 के युग में प्रौद्योगिकी की भूमिका के बारे में बताया गया है। वर्ष 2020 के स्मार्ट सिटी सूचकांक में हैदराबाद का स्थान 85वां (2019 में 67 स्थान) रहा है। नई दिल्ली को 86वां स्थान मिला है, जबकि पिछले साल उसका स्थान 68वां था। इस सूचकांक में मुंबई 2019 के 78वें स्थान से फिसलकर 2020 में 93वें स्थान पर आ गया, जबकि बेंगलुरु को 95वां स्थान मिला है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में शहरों (नयी दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, बेंगलुरु) को इस साल उल्लेखनीय गिरावट का सामना करना पड़ा है।


इसकी वजह यह हो सकती है कि जहां तकनीकी विकास नहीं हुआ है, वहां महामारी का प्रभाव ज्यादा रहा है। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि भारतीय शहर महामारी से अधिक पीड़ित हैं, क्योंकि वे इसके लिए तैयार नहीं थे। स्मार्ट सिटी सूचकांक (एससीआई) 2020 में सिंगापुर सबसे ऊपर है, उसके बाद दूसरे और तीसरे स्थान पर हेलसिंकी और ज्यूरिख रहे हैं। इसके अलावा शीर्ष दस शहरों में स्थान पाने वालों में आकलैंड (चौथा स्थान), ओस्लो (पांचवां स्थान), कोपेनहेगेन (छठा), जिनेवो (सातवां), ताइपेई शहर (आठवां), एम्सटरडम (नौंवां) और न्यूयार्क 10वें स्थान पर रहा है। 


Popular posts from this blog

'चिंटू जिया' पर लहालोट हुए पूर्वांचल के किसान

चकिया में देवर ने भाभी के लाखों के गहने और नगदी उड़ाये, आईपीएल में सट्टे व गलत आदतों में किया खर्च, एएसपी ने किया खुलासा

कुशवाहा कांतःअनुभूतियों में हमेशा जिंदा रहेंगे कालजयी साहित्य के अमर शिल्पी