शर्मनाक: डिलवरी के दौरान नवजात की मौत, हॉस्पिटल ने मां को बनाया बंधक, मृत नाती को गोद में लेकर.....

मृत नाती को गोद में लेकर दर-दर की ठोकरें खाती रही नानी


सीएमओ को जानकारी होने के बाद दो अफसरों को भेजा हॉस्पिटल


हॉस्पिटल को नोटिस देने के साथ ही जांच शुरू



जनसंदेश न्यूज़
लखनऊ। यूपी में स्वास्थ्य सेवाओं की हालत कितनी बद्दतर है और प्राइवेट चिकित्सक किस तरह से संवेदनहीन हो गये है। इसका नजारा मेरठ में देखने को मिला। जहां गौहर हॉस्पिटल से शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया। डिलवरी के दौरान नवजात की मौत के बाद हॉस्पिटल प्रशासन ने उसकी मां को बंधक बना लिया और 20 हजार रुपये चुकाने के बाद ही छोड़ने की बात कहीं। 


हॉस्पिटल प्रशासन ने मृत बच्चे को उसकी नानी को सौंप दिया और पैसे जमा करने के बाद ही महिला को छोड़े जाने की शर्त रख दी। अपने नाती को लेकर सड़क पर लोगों से मदद मांग रही महिला की जानकारी जब स्वास्थ विभाग को हुई तो स्वास्थ विभाग दो अधिकारी हॉस्पिटल पहुंच कर बिल माफ कराया। तब जाकर बच्चे की मां आजाद हुई। पूरे मामले की जांच के लिए कमेटी का गठन किया गया है। 


सूचना के मुताबिक जनपद के खरखौंदा क्षेत्र के पीपलीखेड़ा गांव निवासी मुबारिक ने अपनी पत्नी गुलशन को बीते 8 सितंबर को प्रसव पीड़ा होने के बाद हापुड़ चुंगी के पास स्थित गौहर हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। जहां डॉक्टर की बजाय स्टाफ नर्स से डिलीवरी कराई गई और नवजात बच्चे की मौत हो गई। परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया। उनकी नहीं सुनी गई। 


थक-हारकर परिजनों ने गुलशन को डिस्चार्ज करने के लिए कहा तो अस्पताल ने 20 हजार रुपये बकाया बिल भरने की शर्त रख दी। आरोप है कि अस्पताल प्रबंधन ने स्पष्ट बोल दिया कि 20 हजार रुपये न देने तक गुलशन उनके यहां बंधक रहेगी। गुलशन की मां अपने मृत नाती को गोद में लेकर कमिश्नरी चौराहा पहुंच गई। वह बुरी तरह रो रही थी। लोगों द्वारा काफी पूछने पर बताया कि यह बच्चा मृत है और इसकी मां को हॉस्पिटल वाले डिस्चार्ज नहीं कर रहे है।  


इसकी जानकारी सीएमओ डॉ. राजकुमार को दी गई। उन्होंने तत्काल एसीएमओ डॉ. जीके मिश्रा और डिप्टी सीएमओ डॉ. अशोक निगम को हॉस्पिटल पहुंचने का निर्देश दिया। दोनों अधिकारी गौहर हॉस्पिटल में पहुंचे। पूरा बिल माफ कराते हुए महिला को डिस्चार्ज कराया। वहीं अस्पताल को नोटिस दिया गया है। जांच शुरू भी करा दी गई है।


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल