पत्नी के नाम पर लिया कर्ज, चुका न पाया तो कुल्हाड़ी से वारकर उतारा मौत के घाट

पत्नी के नाम पर बैंक और स्वयं सहायता समूह समेत कई लोगों से लिया था 20 लाख का कर्ज 


नवाबगंज थाना क्षेत्र के पबनाह में वारदात को दिया गया अंजाम




जनसंदेश न्यूज़
लालगोपालगंज/प्रयागराज। पत्नी के नाम पर लाखों रुपये का कर्ज लेने वाले पति पर कर्ज की अदायगी का लगातार दबाव बढ़ता गया। कर्ज चुकता करने के सभी रास्ते बंद दिखाई पड़ रहे थे। बैंक से लोन समेत हर तरह के कर्ज से मुक्ति पाने के लिए आखिरकार पति-पत्नी के रिश्ते को शर्मसार करने की पति ने ठान ली। आखिरकार बीती रात कर्जे के बोझ तले दबे पति ने पत्नी की कुल्हाड़ी से निर्मम हत्या कर दिया। पुलिस ने छानबीन के बाद पत्नी के हत्यारे पति को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। घटना से नवाबगंज क्षेत्र में सनसनी फैल गई।


नवाबगंज थाना क्षेत्र के पवना गांव का रहने वाला शिव शंकर मौर्य अपनी निजी कार चला कर परिवार का पालन पोषण करता था। पत्नी आशा देवी मौर्य स्वयं सहायता समूह चलाती थी। पति-पत्नी अपने तीन बेटे शुभम, आदित्य और आर्यन के साथ रहते थे। पति शिव शंकर मौर्य ने पत्नी के नाम से बैंक स्वयं सहायता समूह समेत कई लोगों से कर्ज लिया था। 



सूचना के मुताबिक बताया जा रहा है कि पति शिव शंकर ने पत्नी के नाम पर लगभग बीस लाख रुपये का बकायेदार हो गया। कर्जा लेने के लिए लोग लगातार दबाव बना रहे थे। आमदनी के रास्ते सीमित होने के कारण पति ने खुद को कर्ज में दबा महसूस कर रहा था। कर्ज अदायगी का कोई रास्ता नजर ना आने से पति को पत्नी की हत्या कर कर्ज से मुक्ति पा लेने की सूझी। 


बीती रात पति-पत्नी एक कमरे में सो रहे थे, जबकि दोनों बच्चे उसी घर के दूसरे कमरे में मौजूद थे। पत्नी की हत्या की सूचना सोमवार को सुबह लगभग 8 बजे जंगल में आग की तरह फैल गई। पति शिव शंकर मौर्य दहाड़े मारकर चिल्लाने लगा। गांव के लोग जब घर में दाखिल हुए तो पत्नी खून से लथपथ मृत पाई गई। घटना की सूचना गांव वालों को मिलते ही घटनास्थल पर भीड़ जुड़ गई। नवाबगंज पुलिस आनन-फानन मौके पर पहुंच गई मामले की पड़ताल किया।



पति ही निकला पत्नी का कातिल
लालगोपालगंज रू मामले का पर्दाफाश करने के लिए पुलिस ने जब तहकीक शुरू की तो पता चला कि पत्नी के नाम पर पति ने लंबा कर्ज लिया है। जिसको अदा न कर पाने की सूरत में पत्नी को मौत के घाट उतारकर कर्जा से मुक्ति आना चाहता था। परंतु पुलिस ने मामले की पड़ताल करते हुए कातिल पति को अपनी हिरासत में ले लिया। घर के बगल एक खेत से पतले में प्रयुक्त कुल्हाड़ी को बरामद कर लिया। कातिल पति शिव शंकर मौर्य के विरुद्ध विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर पुलिस ने उसे जेल भेज दिया।


ननिहालवालों के साथ लिपटकर बिलखते रहे तीनों मासूम
आशा देवी मौर्य की हत्या के बाद पति दुख और रोने का ढोंग कर रहा था। वहीं तीनों बच्चे दहाड़े मार कर रो रहे थे। उसी गांव में ब्याही दूसरी बहन ने तक सूचना प्रतापगढ़ जनपद के मांधाता अपने मायके में को दी। चीखते चिल्लाते मायके वाले पबनाह गांव पहुंचे। मौत की घटना के बाद शुभम, आदित्य और मासूम आर्यन को देखकर ननिहाल वालों ने उसे सीने से लगा लिया।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल