पहले प्यार, फिर इनकार और फिर थाने में मैराथन पंचायत, पढ़िएं प्रेमी कहानी का आखिर क्या हुआ अंजाम

थाने में पंचायत के बाद एक दुसरे के हुए प्रेमी युगल बजी शहनाई  


प्रेमी युगल की शादी के गवाह बने कानून के रखवाले 



रवि प्रकाश सिंह/मनोज श्रीवास्तव
रामनगर। दोनों का प्रेम परवार चढ़ा तो बात शादी तक पहुंची। लेकिन मामला तब बिगड़ा जब परिवार के दबाव में आकर लड़के ने शादी करने से इनकार कर दिया। इसके बाद लड़की रामनगर थाने पहुंचे। पुलिस को पुरी बात सुनाई। थाने पर जाने की भनक लड़का पक्ष को लगा। भागे दौड़े परिवार वाले थाने पहुंचे। मुकदमा लिखाने तक की नौबत आयी लेकिन लड़का शादी के लिए तैयार हुआ और फिर मंदिर परिसर में ही दोनों का विवाह कराया गया। 


ये है कहानी, डोमरी रामनगर की रहने वाली अंजली और सारनाथ निवासी अभिमन्यु की है। अंजली भोजपुर स्थित एक निजी अस्पताल में बतौर नर्स काम करती थी। सन 2017 में वहां काम करने के दौरान मवइया सारनाथ निवासी अभिमन्यु विश्वकर्मा से दोस्ती हुई। ये दोस्ती प्यार में बदल गई। दोनों सलारपुर में एक निजी अस्पताल में आ गए। यहां नजदीकियां और बढ़ गई। फिर क्या, दोनों ने एक दूसरे के साथ जीने मरने की कसमें खायी। जीवन को धार और गति देने के लिए बात शादी तक पहुंची गई। 


अभिमन्यु ने अपने परिवार में प्रस्ताव रखा, लेकिन यहां मामला जाति को लेकर फंस गया। लड़की ठहरी अनुसूचित जाति कि अब दबाव लड़के के ऊपर बनने लगा। मामला बढ़ता देख अभिमन्यु पीछे हट गया। शादी करने से इनकार कर दिया। ये बात लड़की को नागवार लगी और पहुंच गई रामनगर थाने। पुलिस को पूरी बात बताई। इस बात की जानकारी अभिमन्यु और उसके परिवार को जैसे हुई ये लोग थी थाने पहुंचे हैं , यहां भागे दौड़े पहुंचे। थाने में मैराथन पंचायत हुई। आखिकार  दोनों परिवार ने हामी भरी और थाने के पास एक मंदिर में देर शाम पंडित जी को बुलाया गया। मंत्रोचार के बीच रीति रिवाज से शादी संपन्न कराई गई। दोनों हंसमे मुस्कुराते अपने घर रवाना हो गए। 


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल