नितेश सिंह हत्याकांड के आरोपी गिरधारी उर्फ डॉक्टर पर इनाम हुआ एक लाख, सदर तहसील में ताबड़तोड़ बरसाई थी गोलियां

सरगर्मी से वाराणसी पुलिस कर रही तलाश, हत्या को हुए बीते एक साल


(File Photo)


जनसंदेश न्यूज़
वाराणसी। बीते साल सदर तहसील में ठेकेदार नितेश सिंह उर्फ बबलू की गोलियां बरसाकर हत्या कर दी गई। हत्या के आठ महीने बाद जो पहला नाम प्रकाश में आया गिरधारी उर्फ डाक्टर का है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है लेकिन अबतक उसका कोई सुराग नहीं मिल सका है। इसके उपर पहले 50 हजार ईनाम घोषित था जिसे बढ़ाकर एक लाख कर दिया गया। गिरधारी लखनपुर थाना चोलापुर वाराणसी का निवासी है। नितेश सिंह हत्या के मामले में परिजनों ने शिवपुर थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है।


बीेते साल 30 सिंतबर को शिवपुर थाना क्षेत्र के तहसील परिसर में नितेश सिंह उर्फ बबलू सिंह की बदमाशों ने पेशेवर अंजाज में एक के बाद एक गोलियां बरसाकर हत्या कर दी थी। हत्या उस समय की गई जब वह अपने बुलेट प्रुफ फार्च्यूनर गाड़ी में बैठने जा रहे थे। इस हत्याकांड के बाद ये साफ हो गया था कि घटना को अंजाम किसी शार्प शूटर ने दी है। मामले का पर्दाफाश करने में आठ महीने का वक्त बीत गया। 


इस दौरान शहर के दो एसएसपी का तबादला हुआ लेकिन हत्यारा कौन है इसका सुराग पुलिस नहीं लगा सकी। आठ महीने बाद इस हत्या में एक नाम उजागर हुआ जो जो गिरधारी उर्फ डॉक्टर है। पुलिस ने इसके उपर 50 हजार का ईनाम रखा। हालांकि ये अभी पुलिस की पकड़ से दूर है। एक बार इसके उपर ईनाम की राशि बढ़ाकर एक लाख कर दी गई। सारनाथ थाना क्षेत्र के लोहिया नगर निवासी नितेश सिंह की बस चलती थी। इसके अतिरिक्त प्रॉपटी डीलिंग, मजूदरों की सप्लाई आदि कई काम करते थे। दबंग किस्म के बबलू की अदावत कई लोगों से थी।


Popular posts from this blog

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल

साली के प्यार में आकर जीजा ने पत्नी और बेटी की कर दी निर्मम हत्या, 10 साल पहले किया था लव मैरिज

केन्द्र सरकार ने जारी की अनलॉक 5 की गाइडलान, इस तारीख से पूरे देश में खुलेंगे सिनेमा हॉल