कुशीनगर में अब तक कि सबसे बड़ी बरामदगी, 6 ट्रकों से सैकड़ों गौवंश बरामद


 


तमकुहीराज, कुशीनगर। बिहार सीमा के निकट हाइवे से पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से छः ट्रकों में ले जाये जा रहे सैकडों गौवंश सहित ग्यारह तस्करों को पुलिस बरामद करने में सफल रहीं।
मुखबिर के सूचना पर पुलिस क्षेत्राधिकारी तमकुहीराज ने बहादुरपुर पुलिस चौकी के प्रभारी पी एन सिंह व चौकी के सिपाहियों के साथ ग्रामीणों का सहयोग लेकर छः ट्रकों से तस्करी कर ले जाये जा रहे सैकडों गौवंशों सहित ग्यारह तस्करों को गिरफ्तार करने में सफल रहें।
पुलिस के अनुसार गुरुवार की रात करीब बारह बजे के आसपास पुलिस पुलिस क्षेत्राधिकारी तमकुहीराज फुलचंद  कनौजिया को मुखविर द्वारा सूचना मिली कि एक पशु तस्करों का गिरोह आधा दर्जन ट्रको पर पशु लेकर बिहार के तरफ निकलने वाले हैं। जिसके बाद पुलिस क्षेत्राअधिकारी ने तत्काल  तरयासुजान प्रभारी निरीक्षक धर्मेन्द्र कुमार सिंह को बताते हुए बहादुरपुर पुलिस चौकी पर घेराबंदी करने के लिए बताया। उसके बाद पुलिस ने नेशनल हाईवे बहादुरपुर के पास घेराबंदी कर गाड़ी संख्या यूपी 51 एटी 3267, युपी 50 एटी 2286 , युपी 51 एटी 3548, युपी 50 एटी 4881, यपी एटी 8650, युपी 51 एटी 8677, को रोककर जमा तलाशी लिया तो सभी गाड़ियों में भूसे के तरफ गाय व बछड़ा बांधे गए थे। वहीं ट्रकों से कुल ग्यारह अभियुक्त को पुलिस गिरफ्तार कर पुछताछ करने में जुटी है। वहीं पुलिस अभियुक्तों के साथ पशुओं से भरी ट्रक को अपने कब्जे में लेकर कार्रवाई में जुटी हुई है। इस दौरान बहादुरपुर पुलिस चौकी प्रभारी प्रेम नारायणन सिंह, दिवान सचिन्द्र राय, उदयभान मिश्रा, अजय तिवारी, सिपाही विजय सिंह, पंकज चौधरी, अवधेश यादव्, दिनदयाल गुप्ता मौजूद रहे।



पुलिस सही जानकारी देने से कतराती रही

बरामद पशुओं से सम्बंधित जानकारी के लिए सम्पर्क करने पर तरयासुजान थाने की पुलिस स्पष्ट जानकारी देने से कतराती रही। शाम पांच बजे के बाद पुलिस ने छः ट्रकों से बरामद पशुओं की संख्या 223 राशि गौवंश बताई। बरामद पशुओं में दुधारू गाय, बैल व बछड़ा देखे गये।



तस्करों के पश्चमी उत्तर प्रदेश के होने की चर्चा

गौवंशों के बरामदगी के अगले सुबह एक राजनैतिक दल के झंडा लगे लग्जरी गाड़ी से तस्करों के तरयासुजान थाने से लगायत कुछ चर्चित लोगों के इर्दगिर्द घूमते देखे गये। जानकारों के अनुसार उक्त तस्कर बिहार सीमा पर टोकन के जरिये इंट्री कराने वालों के साथ तमकुहीराज कस्वे का चक्कर लगाते हुए भी देखें गये।



पशुओं को सुपुर्दगी में लेने की मची रही होड़

बरामद पशुओं एवं दुधारू गायों को सुपुर्दगी में लेने की होड़ में प्रातः से बिना भोजन किये सैकड़ो लोग थाने पर जमे रहें। गौवंशों को प्राप्त करने के लिए हर व्यक्ति अपने प्रभाव व सम्पर्कों को साधने में लगा रहा। जबकि कुछ चर्चित चेहरे व पुलिसकर्मी भी इस काम में लगे रहें।


पुलिस के सुपुर्दगी पर पूरा दिन उठता रहा सवाल

बरामद पशुओं के सुपुर्दगी को लेकर पूरे दिन व देर रात तक लोग थाने पर जमे रहें। आम आदमी व कुछ समाजिक लोग सुपुर्दगी को लेकर सवाल उठा रहें थे। जबकि कुछ समाजिक लोगों का कहना था कि पुलिस को गौवंशों को रजिस्टर्ड गौशाला को सौप देना चाहिए। पहले भी सुपुर्दगी को लेकर ऐसे ही सवाल उठते थे तो पूर्व पुलिस कप्तान ने बरामद पशुओं को गौशाला भेजवा पुलिस पर उठ रहे सवाल पर विराम लगवा दिया था। इस बार भी कुछ समाजिक लोगों ने पुलिस के सामने ऐसा प्रस्ताव रखा था, लेकिन पुलिस ऐसा क्यों नहीं कि यह पुलिस ही जाने, जिसके बाद सवालों की झड़ी लगनी शुरू हो गयी।


हाइवे पर स्थित थानों पर उठ रहे सवाल

एक साथ इतनी बड़ी बरामदगी के बाद कुशीनगर जनपद में हाइवे पर स्थित दूसरे पुलिस थानों पर भी सवाल खड़े हो रहें। लोगों का मानना है कि यह कोई छोटा रैकेट नहीं है। फिर जनपद के दूसरे खासकर तरयासुजान थाने को इसकी भनक क्यों नहीं लगी। और पुलिस क्षेत्राधिकारी ने बहादुरपुर पुलिस चौकी के अलावे तरयासुजान या फिर तमकुहीराज पुलिस चौकी का सहयोग न लेकर ग्रामीणों का सहयोग क्यों लिया। इसकी चर्चा भी तेजी से हो रही है।


Popular posts from this blog

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल

साली के प्यार में आकर जीजा ने पत्नी और बेटी की कर दी निर्मम हत्या, 10 साल पहले किया था लव मैरिज

केन्द्र सरकार ने जारी की अनलॉक 5 की गाइडलान, इस तारीख से पूरे देश में खुलेंगे सिनेमा हॉल