कराएं पंजीकरण, पाएं सरकारी योजनाओं का लाभ, पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को लाभ पहुंचाने को सरकार कटिबद्ध

अपंजीकृत निर्माण श्रमिक सीएससी पर करा सकते हैं पंजीयन



जितेन्द्र श्रीवास्तव
वाराणसी। प्रदेश सरकार निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों के लिए तमाम सरकारी योजनाएं चला रही है। इन योजनाओं का लाभ ऐसे श्रमिकों को तभी मिलता है, जब वह उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकृत हो। ऐसे में अपंजीकृत निर्माण श्रमिक आवश्यक अभिलेखों के साथ किसी भी कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) पर जाकर अपना पंजीयन करा सकते हैं। बशर्तें उनकी आयु 18 से 60 साल के बीच हो। 


उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की तरफ से पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के हित में मृत्यु विकलांगता एवं अक्षमता पेंशन योजना, कन्या विवाह योजना, मातृत्व, शिशु एवं बालिका प्रोत्साहन योजना, चिकित्सा सहायता योजना, मेधावी छात्र पुरस्कार योजना, संत रविदास शिक्षा सहायता योजना आदि तमाम योजनाएं संचालित किया जा रहा है। ऐसे निर्माण श्रमिक, जो पूर्व से पंजीकृत है, वे किसी भी किसी भी सीएससी से अपना नवीनीकरण करा सकते हैं। निर्माण श्रमिकों के पंजीयन की खातिर आवश्यक अभिलेखों में आधार कार्ड, बैंक पासबुक एवं निर्माण श्रमिक के रूप में 90 दिन कार्य करने का प्रमाण-पत्र अथवा स्व-घोषणा पत्र शामिल है। निर्माण श्रमिकों के नवीनीकरण की खातिर आवश्यक अभिलेखों में पंजीयन प्रमाण-पत्र, आधार कार्ड, बैंक पासबुक मान्य है। जिले के निर्माण श्रमिक अपने आवश्यक अभिलेखों के साथ अपना पंजीयन किसी भी सीएससी से करा सकते हैं। 


ये आयेंगे निर्माण श्रमिक वर्ग में


वेल्डिंग व बढ़ई का कार्य, कुआं खोदने, रोलर चलाने, छप्पर डालने का कार्य, राजमिस्त्री का कार्य, पलंबरिंग, लोहार, मोजैक पॉलिस, सड़क निर्माण, मिक्सर चलाने का कार्य, पुताई, इलेक्ट्रिक वर्क, हथौड़ा चलाने का कार्य, सुरंग निर्माण, टाईल्स लगाने का कार्य, कुएं से गाद (तलछट) हटाने का कार्यध्डिविंग, चट्टान तोड़ने का कार्य या खनिकर्म, स्प्रे वर्क या मिक्सिंग वर्क (सड़क निर्माण से संबंध), मार्बल एवं स्टोन्स वर्क, चौकीदारी (निर्माण स्थल पर सुरक्षा प्रदान करने के लिए), सभी प्रकार के पत्थर काटने, तोड़ने व पीसने का कार्य करने वाले। इसके अलावा लिपिकीयध्लेखा-कर्म (किसी निर्माण अधिष्ठान में लिपिक व लेखाकार के रूप में कार्यरत सभी प्रकार के कर्मकार के लिए), स्विमिंग पूल, गोल्फ कोर्स आदि सहित अन्य मनोरंजन सुविधाओं का निर्माण कार्य, बांध, पुल, सड़क का निर्माण या भवन निर्माण के अधीन कोई सक्रिया, बाढ़ प्रबंधन व इसी प्रकार के अन्य कार्य से संबंधित सभी कार्य, ठंडे एवं गर्म मशीनरी की स्थापना और मरम्मत का कार्य, बड़े यांत्रिक कार्य मसलन-मशीनरी, पुल निर्माण कार्य आदि, मकानोंध्भवनों की आंतरिक सज्जा का कार्य, खिड़की, ग्रिल, दरवाजे आदि की गढ़ाई एवं लगाने का कार्य, रसोई में उपयोग की खातिर मॉडूलर इकाइयों की स्थापना, सामुदायिक पार्क या फुटपाथ निर्माणर्, इंट-भट्ठा पर्र इंट निर्माण कार्य, मिट्टी, बालू व मोरंग के खनन का कार्य, सुरक्षा द्वार एवं अन्य उपकरणों की स्थापना का कार्य, लिफ्ट एवं स्वचालित सीढ़ी की स्थापना का कार्य, सीमेंट, कंक्रीटर्, इंट आदि ढोने का कार्य, मिट्टी का काम, चूना बनाने का कार्य आदि इसमें शामिल है।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल