जम्मू के ड्यूटी के दौरान शहीद हुए चंदौली के बेटे को राजकीय सम्मान ना मिलने से आक्रोशित हुए लोग, चक्काजाम कर धरने पर बैठे

लोगों के समर्थन में सपा के राष्ट्रीय सचिव, प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व सैनिक भी धरने पर बैठे


राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि किये जाने पर अड़े लोग


शहीद के परिजनों को एक करोड़ का मुआवजा व एक नौकरी की मांग




जनसंदेश न्यूज़
चंदौली। जम्मू के राजौरी में ड्यूटी पर तैनात रहे सेना के जवान का पार्थिव शरीर एक साधारण एंबुलेंस से सुबह उनके घर पहुंचा। देश की सेवा में तैनात सैनिक का पार्थिव शरीर एक एम्बुलेंस से घर भेजने पर लोग आक्रोशित हो गए। जिसके चलते वाराणसी- जमानिया मार्ग को ग्रामीणों ने जाम कर दिया थाना चौराहा पर धरने पर बैठ गए। सपा के राष्ट्रीय सचिव मनोज सिंह डबलू भी धरने के समर्थन में वहां बैठ गए। जवान को सम्मान की मांग करने लगे।


दरअसल रविवार को जम्मू के राजौरी में तैनाती के दौरान सैनिक की मौत हो गई थी। जवान के परिजनों के साथ स्थानीय लोग मृतक जवान को शहीद का दर्जा दिलाने और राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि करने पर अड़े हुए हैं।



विदित हो कि जम्मू के राजौरी तैनात सेना के जवान कुलदीप मौर्य की ड्यूटी के दौरान बेस कैंप पर अचानक तबीयत खराब होने के बाद उनकी मौत हो गई। सेना के अधिकारियों ने परिजनों को बताया की कुलदीप की हार्ट अटैक की वजह से मौत हो गई है। जिसके बाद परिवार में मातम छा गया और बीते 2 दिनों से शव का इंतजार कर रहे हैं। परिजनों को आज सूचना मिली तड़के उनके बेटे का शव गांव पहुंचेगा। परिवार के लोग शव को रिसीव करने जा रहे थे कि स्थानीय प्रशासन ने बताया कि शव को बॉर्डर पर रिसीव किया जाएगा।


परिजनों का आरोप है कि शव को एक साधारण एंबुलेंस से गांव भेज दिया गया। न कोई राजकीय सम्मान मिला न ही सेना की गाड़ी से पार्थिव शरीर को घर पहुँचाया गया। जिसके बाद लोग आक्रोशित हो उठे और जवान के शव को घर से पहले ही धानापुर चौराहे पर रोक कर जाम लगा दिया।



पूर्व सैनिक सपा नेता अंजनी सिंह ने बताया कि देश की सेवा में तैनात एक सिपाही की अंतिम विदाई के दौरान जिस तरीके की प्रशासनिक लापरवाही बरती गई है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार कराया जाए। जब तक शासन प्रशासन उनकी यह मांगे नहीं मानेगा तब तक परिवार के लोग अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।


परिवार के साथ तमाम राजनीतिक दलों के लोग भी वाराणसी-जमानिया मार्ग पर धरने पर बैठे हैं। सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज काका ने योगी सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार और प्रशासन के लोग जवान का शहादत का अपमान कर रहे है। देश की सुरक्षा में तैनात सेना के सिपाहियों अगर सही सम्मान नहीं मिल पा रहा है, तो बाकियों से क्या उम्मीद की जाए? लोगों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हुई वह मौके से नहीं हटेंगे। यहीं नहीं उन्होंने कुलदीप मौर्य को शहीद का दर्जा परिजनों को एक करोड़ मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने प्रदेश सरकार से मांग की।


घंटो मान मनौव्वल के बाद समाप्त हुआ धरना
धरनास्थल पर लोगों की थी कि शहीद जवान कुलदीप कुमार को शहीद का दर्जा दिया जाए तथा उनके परिवार को एक करोड़ रुपया और उनके लड़के को नौकरी दिया जाए और उनके नाम से सड़क निमार्ण कराया जाए, और ये सब लिखित मिलेगा तब जाकर धरना समाप्त होगा। घण्टों मशक्कत के बाद एसडीएम सकलडीहा प्रदीप कुमार के लिखित आश्वासन के बाद जाकर धरना समाप्त हुआ और जवान के शव को उनके पैतृक गाव पुराचेता दुबेपुर ले जाया गया।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल