गोलगप्पा ने बना दी जोड़ी, इश्क की खुमारी में घर छोड़ने की ठानी, पुलिस ने फेरा पानी 

खट्टा पानी कब मीठे इश्क में बदला नहीं चला पता 



रवि प्रकाश सिंह
वाराणसी। गोलगप्पा से कब किसकी जिंदगी बन जाय कहा नहीं जा सकता। अब गोलगप्पा खिलाने वाले का क्या पता था कि एक दिन खाने वाली उसकी कहानी बन जाएगी। गोलगप्पा खाना और खिलाना इश्क की इबारत लिख देगा। ये दोनों की जिंदगी बन जाएगी, लेकिन पुलिस ने इस इश्क को बेरंग कर दिया। आशिक को क्या पता कि ‘ये इश्क नहीं आसान’ आखिर प्यार को अंजाम देना था तो फिर क्या भागने भगाने का दौर शुरू हुआ। लेकिन पुलिस की पैनी नजर से बच नहीं पाया पकड़ा गया और हवालात गया अंदर से। 


अब बेचने वाले को क्या पता था कि पानी के चटक स्वाद से ज्यादा इश्क परवान एक दिन खुमार चढ़ने लगेगा। वो खाने आती और ये प्यार से खिलाता। इधर खाने खिलाने का सिलसिला बढ़ता गया उधर दिल की धड़कनें तेज होती र्गइं। अब खाना खिलाना तो बहाना रहा असल में नैना चार करने का ठिकाना बन गया। दोनों का इश्क परवान चढ़ने लगा और बात घर बसाने तक पहुंच गई। 


मामला वाराणसी के मिर्जामुराद थाना क्षेत्र का है। मंगलवार को इश्क को मुकाम तक पहुंचाने के लिए दोनों ने मुंबई बसने की तैयारी कर ली थी। लेकिन इस बीच मामले की भनक पुलिस को लगी और प्यार परवान चढ़ने के पहले ही धराशाई हो गया। युवक को जेल की हवा खानी पड़ी वहीं युवती को परिजनों के हवाले कर दिया गया। जानकारी के अनुसार के ठटरा गांव निवासी युवक कछवांरोड चौराहा पर चाट-गोलगप्पा की ठेले पर दुकान लगाता है। छतेरी गांव निवासिनी युवती गोलगप्पे खाने दुकान पर पहले आती रही। एक वर्ष पूर्व दोनों की नजरें लड़ीं और फिर प्यार बढ़ता गया। दोनों अलग-अलग वर्ग समुदाय के प्रेमी युगलों ने मुम्बई जाकर आपस में शादी रचाने का मन बनाया था।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल