गोकशी की झूठी सूचना पर दबिश, एक की मौत


बिजनौर में गोकशी की झूठी सूचना पर थाना प्रभारी को बिना बताए दबिश देने गई दरोगा के नेतृत्व में पुलिस टीम द्वारा तोड़फोड़ करने व बड़े भाई के साथ मारपीट करने के खौफ से एक 54 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई। मौत के बाद पुलिस उल्टे पांव लौट आई। मौत के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। घटना के बाद आनन-फानन में पुलिस अधीक्षक ने चर्चित दरोगा व एक सिपाही को लाइन हाजिर कर दिया। मृतक के परिजनों ने पोस्टमार्टम न कराने पर लिखित तहरीर देकर मामले का निपटारा कर दिया।


 बिजनौर के नगीना थाना क्षेत्र के मोहल्ला लुहारी सराय में दरोगा रोहित शर्मा अपने आधा दर्जन से अधिक सिपाहियों के साथ झूठी गोकशी की सूचना पर अनवर अहमद व उसके भाई अंजार के घर दबिश देने के लिए गए थे। दबिश के दौरान चर्चित दरोगा रोहित शर्मा व सिपाहियों ने उसके घर के बाहर रखा सामान कुर्सी आदि को भी तोड़ फोड़ दिया और उसके दरवाजे को लगातार पीटते रहे व तोड़ने की कोशिश करते रहे लेकिन दरवाजा नहीं टूटा।
मृतक के बड़े भाई अबरार अहमद ने बताया कि जैसे ही वह अपने कमरे नीचे आया तो दरोगा ने उस पर लाठियां से पीटना शुरू कर दिया। जिसमें वह घायल हो गया।


जिसके बाद उसका छोटा भाई मृतक अनवार अहमद पुलिस की दबिश से भयभीत हो गया और उसकी तबीयत खराब हो गई जिसके चलते हार्ट अटैक से उसकी मौत हो गई। मौत होने से दरोगा व पुलिसकर्मी घबरा गया और उल्टे पैर वापस चले गये, मौत के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। आनन-फानन में पुलिस अधीक्षक ने दबिश देने गए दरोगा रोहित शर्मा व एक सिपाही अमित कुमार को तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया। घटना की सूचना थाना प्रभारी व पुलिस क्षेत्राधिकारी को मिलते ही विभाग में हड़कंप मच गया और थाना प्रभारी तथा पुलिस क्षेत्राधिकारी मोहल्ले के कुछ गणमान्य लोगों व अन्य लोगों के साथ मृतक के घर पहुंचे और मृतक के पुत्र से तहरीर मिली जिसमें उसने अपने पिता की मौत हार्टअटैक होने से बताया और वह न तो पोस्टमार्टम चाहते हैं और न ही किसी तरह की कार्रवाई। 
पुलिस अधीक्षक बिजनौर ने दरोगा रोहित शर्मा व सिपाही अमित कुमार को दोषी मानते हुए तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया और रात में ही थाना प्रभारी ने उनकी रवानगी कर दी।


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल