बाजार में खुलेआम बिक रही प्रतिबंधित मछली मांगुर, कार्रवाई करने में लापरवाही बरत रहे जिम्मेदार



जनसंदेश न्यूज़
नंदगंज/गाजीपुर। नंदगंज बाजार तथा ग्रामीण क्षेत्र की चट्टी-चौराहों पर प्रतिबंधित मांगुर मछली खुलेआम धड़ल्ले से बेची जा रही है। मांगुर मछली की बिक्री पर सम्बन्धित विभाग रोक लगाने पूरी तरह से असफल हैं। अन्य किसी बाजार में मांगुर मछली की बिक्री पर कोई कार्रवाई होती है तो मांगुर मछली बेचने वाले एक दो दिन बेचना बन्द कर देते हैं। उसके बाद पुनः शुरू कर देते हैं। 


नंदगंज मछली बाजार में मांगुर मछली बिक्री पर एक बार भी निरीक्षण तथा कोई  कार्रवाई नहीं होने से मछली विक्रेता बिना भय के बेच रहे हैं। मस्त्य विभाग के अनुसार मांगुर मछली प्राकृतिक जलीय संपदा एवं पर्यावरण के लिए अत्यन्त घातक हैं। मांगुर मछली कई बीमारियों की वाहक होती है। जो पर्यावरण और इंसानों के स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसानदायक है। इसलिए सरकार ने इस पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है। 


मत्स्य निरीक्षकों ने बताया कि मांगुर मछली के पालन तथा बिक्री पर सरकार की ओर से पूर्ण प्रतिबंध लगा हुआ है। यही नहीं मांगुर मछली को ग्रामसभा तथा निजी तालाबों में पालन-संर्वधन भी नहीं किया जा सकता है। इस मछली का भंडारण, आयात-निर्यात एवं बिक्री कोई नहीं कर सकता हैं। लोगों को भी इस मछली के खाने से परहेज करना चाहिये। अन्यथा वें कई बीमारियों के चपेट में आ सकते हैं। मत्स्य विशेषज्ञों के अनुसार यदि इस मछली के पालन को नियंत्रित या प्रतिबंधित नहीं किया गया तो कई जलीय पौधे एवं जलजीव इस धरती से विलुप्त हो जायंेगे। यह मांगुर मछली जन स्वास्थ्य के लिये बहुत ही हानिकारक हैं। इसके बाद भी प्रशासन द्वारा नंदगंज मछली बाजार में मांगुर मछली की बिक्री पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी।


 


Popular posts from this blog

यूपी में होगी नौकरियों की बारिश, तीन लाख युवाओं को मिलेगी नौकरी, जानिए किस विभाग में है कितना पद खाली?

सीएम योगी का बड़ा फैसला, यूपी में अगले तीन महीनों में सभी खाली पदों पर भर्तियां, छह महीनों में नियुक्ति के निर्देश

यूपी में नौकरियों की भरमार, अपनी दक्षता के अनुरूप जॉब तलाशेें युवा, यहां देखें पूरा डिटेल